Barrister Babu 24 August 2021 Written Update in Hindi : कृष्ण का अवतार लेकर कृष्णा नगर पहुंचे अनिरुद्ध
Barrister Babu 24 August 2021 Written Update in Hindi

Barrister Babu 24 August 2021 Written Update in Hindi

बैरिस्टर बाबू 24 अगस्त 2021 एपिसोड : एपिसोड की शुरुआत संपूर्णा से होती है जो बोंदिता को लंदन नहीं जाने के लिए कहती है। वह बोंदिता से अनिरुद्ध को एक मौका देने के लिए कहती है। वह उससे बहुत प्यार करता है और वह जानती है कि बोंदिता भी उससे बहुत प्यार करती है। बोंदिता कहती है कि वह वहां नहीं रह सकती।

संपूर्णा पूछती है क्यों? उसे क्या रोक रहा है? सुमति प्रवेश करती है और कहती है कि उसने उसे शपथ दिलाई। सुमति संपूर्ण को जाने के लिए कहती है, उसका उस घर से कोई संबंध नहीं है। उनके बीच केवल दुश्मनी है। अगर ठकुमा को इस बारे में पता चल गया, तो वह उसे मार डालेगी, इसलिए उसका जाना ही बेहतर है।

संपूर्णा एक चाकू उठाती है और सुमति को उसे मारने के लिए कहती है। वह आज बोंदिता के लिए अपनी जान दे सकती है। वह सुमति से अपनी शपथ वापस लेने का अनुरोध करती है। अनिरुद्ध और बोंदिता एक दूसरे के बिना मर जाएंगे। सुमति समझौता करने को तैयार नहीं है।

बोंदिता संपूर्णा को शास्वती की शपथ देती है और उससे जाने का अनुरोध करती है। संपूर्णा ठीक कहती है, लेकिन अनिरुद्ध धीमा नहीं होने वाला है। उसे कोई नहीं रोक पाएगा। वह बोंदिता से कहती है कि उसे यह तय करना है कि उसे इस जन्माष्टमी के दौरान लड़ाई या प्यार चाहिए।

Barrister Babu 24 August 2021 Written Update in Hindi

रात में बोंदिता अनिरुद्ध के बारे में सोच रही है। उसे अनिरुद्ध का फोन आता है। वह पूछता है, तुम रो रहे हो, है ना? वह झूठ बोलती है, नहीं। मेरे पास रोने या खुश होने का कोई कारण नहीं है। वह कहते हैं, मैं जानता हूं कि तुम्हारे दुख का कारण मैं हूं। लेकिन मैं तुम्हारी मुस्कान, खुशी का कारण बनना चाहता हूं।

अगर तुम सिर्फ मुझसे दूर जाने की सोच कर रो रहे हो, तो सोचिए जब ऐसा होगा तो क्या होगा। वह कहती है, मैं नहीं मरूंगी। वह कहता है, अगर मैं मर जाऊं तो क्या होगा? वह रोती है और पूछती है, तुम फिर से मेरे दुख का कारण बनना चाहते हो, सखा …

वह कहता है, तुम्हारा सखा बाबू तुम्हारी खुशी का कारण बनना चाहता है और इसलिए मैं तुम्हें अपने से दूर नहीं जाने दूंगा। कभी नहीँ। वह कहती हैं, मैं यहां किसी के लिए नहीं रह सकती। वह पूछता है, मेरे लिए भी नहीं? वह कुछ नहीं कहती और फोन काट देती है।

वह कहते हैं, फांसी देने से पहले मैं आपको बताना चाहता हूं कि मैं कल जन्माष्टमी पर आपके घर आ रहा हूं अपने अधूरे रिश्ते को पूरा करने के लिए, अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए। वह कहती है, तुम नहीं आओगे। कुछ भी हो सकता है। वह कहते हैं, मैं इसके साथ ठीक हूं।

Watch : Barrister Babu 23 August 2021 Written Update in hindi

Barrister Babu 24 August 2021 Written Update in Hindi

वह कहती हैं, आप अपनी जान भी गंवा सकते हैं। वह कहते हैं, मैं सब कुछ ठीक हूं। अगर मुझे तुम्हारे साथ रहना है, तो मैं सब कुछ स्वीकार करता हूं। वह उसे अपने घर पर बताने के लिए कहता है कि उसका ‘बैरिस्ट्रा’ बाबू, उसका सखा बाबू उसकी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए आ रहा है। वह कहती है, तुम नहीं आओगे। वह सुनने से इंकार कर देता है। वह फोन रख देता है और मुस्कुरा देता है।

ठाकुमा जन्माष्टमी का कार्य शुरू करती है। हर कोई कृष्ण भगवान का आशीर्वाद लेता है। तपुर बोंदिता से कहता है कि वह राधा की तरह प्यारी लग रही है। बोंदिता कहती है, लेकिन कृष्ण कहां हैं? तपुर एक महिला से पूछता है। महिला का कहना है कि वह नहीं आ सका। चंद्रचूड़ सोचता है कि वह बोंदिता को ऐसे नहीं जाने देगा। वह उसे अपना आज बनाना सुनिश्चित करेगा।

अनिरुद्ध कहते हैं कि जिस तरह राधा के नाम के बिना कृष्ण का नाम अधूरा है, वह भी बोंदिता के बिना अधूरा है। इसलिए वह आज उनके पास अपनी भावनाओं को व्यक्त करने जा रहे हैं। वह आशीर्वाद मांगता है।

Barrister Babu 24 August 2021 Written Update in Hindi

वह अपने कमरे का दरवाजा नहीं खोल सकता। वह बिहारी को बुलाता है। सब वहाँ आते हैं। संपूर्णा पूछती है कि दरवाजा किसने बंद किया? त्रिलोचन का कहना है कि उन्होंने किया। फ्लैशबैक में पता चलता है कि बोंदिता ने त्रिलोचन को फोन किया और अनिरुद्ध को कृष्णा नगर आने से रोकने के लिए कहा।

वर्तमान में, त्रिलोचन कहते हैं कि उन्होंने ठाकुमा से वादा किया था कि बोंदिता को कोलकाता जाने से रोकने के लिए तुलसीपुर से कोई रोक नहीं होगी। इसलिए यह सुनिश्चित करना उनकी जिम्मेदारी है कि उनकी तरफ से कोई ठहराव न आए। अनिरुद्ध कहते हैं, तुम मेरे साथ ऐसा नहीं कर सकते।

त्रिलोचन कहते हैं, मैं तुम्हारे साथ यह कर रहा हूं। वह गार्ड को वहीं रहने के लिए कहता है और सुनिश्चित करता है कि अनिरुद्ध बाहर न निकले। वह परिवार के अन्य सदस्यों को श्राद्ध/अंत्येष्टि में शामिल होने के लिए कहता है। संपूर्णा पूछती है कि किसका अंतिम संस्कार? वह कहते हैं, बोंदिता का। उसने इस घर के साथ यादें छोड़ दीं। यह सुनकर अनिरुद्ध चौंक गया।

बोंदिता चंद्रचूर से कहती है कि उसका कृष्ण कहीं दिखाई नहीं दे रहा है। वे रास लीला आदि कैसे करेंगे? वह उसे चिंता न करने के लिए कहता है, उसका कृष्ण अवश्य आएगा। ठाकुमा बोंदिता से कहता है कि अगर चंद्रचूर ने कहा, तो कृष्ण आएंगे। वह पूछती है कि क्या उसके जाने की तैयारी की गई है। वह हाँ कहती है।

Barrister Babu 24 August 2021 Written Update in Hindi

चंद्रचूड़ ने खुद को माफ कर दिया। वह एक केमिकल को देखता है और कहता है कि उसके पास बस यही रास्ता बचा है। उसे पीने के बाद बोंदिता को नशा हो जाएगा और वह आसानी से किसी भी बात के लिए राजी हो जाएगी। वह उसे अपने कमरे में ले जाएगा और फिर… वह मुस्कुराता है और कहता है कि वे एक हो जाएंगे। उसके बाद बोंदिता हमेशा के लिए उसकी हो जाएगी।

संपूर्ण त्रिलोचन को बताता है कि यह गलत है। उनका कहना है कि बोंदिता ने उनके साथ गलत किया। अनिरुद्ध ने संपूर्ण को यह कहते हुए रोक दिया कि उसका और बोंदिता का रिश्ता इतना कमजोर नहीं है कि त्रिलोचन के ऐसा करने से टूट जाएगा।

दरअसल, आज वह बोंदिता के साथ अपने रिश्ते को और भी मजबूत करने जा रहे हैं। त्रिलोचन का कहना है कि वह अपने कमरे से बाहर नहीं निकल पाएगा, उससे मिलना भूल जाओ। अनिरुद्ध कहते हैं कि उन्हें कोई नहीं रोक सकता। वह आज बोंदिता से अपने प्यार का इजहार करेगा। वह सोचता है कि कमरे से बाहर कैसे निकला जाए।

चंद्रचूड़ रस में रसायन मिलाकर बोंदिता को देता है। अनिरुद्ध अपने कमरे में आग लगाता है और मदद के लिए चिल्लाता है। गार्ड के अंदर आते ही वह बाहर आ जाता है और उन्हें अंदर बंद कर देता है। बोंदिता जूस पीने ही वाली है कि तपुर आता है और कहता है कि कृष्ण जी यहाँ हैं। बोंदिता जूस का गिलास एक तरफ रख देती है और कृष्ण जी को देखने जाती है।

अनिरुद्ध कृष्ण का वेश धारण करके आता है। बोंदिता, ठकुमा और अन्य लोग कृष्ण जी को देखकर खुश हो जाते हैं। ठाकुमा उसे बोंदिता के पास जाने के लिए कहती है। बोंदिता उसे सारी परंपराएं बताएगी। तपुर बोंदिता से कहता है, यहाँ तुम्हारे कृष्ण जी हैं। वह कहती है कि वे असली कृष्ण और राधा की तरह दिखते हैं। बोंदिता अनिरुद्ध को भगवान का आशीर्वाद लेने के लिए ले जाती है। उसके बाद, वह उसे एक बांसुरी देती है। वह ठीक से नहीं रखता।

Barrister Babu 24 August 2021 Written Update in Hindi

उसे पढ़ाते समय, वह उसका हाथ छूती है और जम जाती है। वह हाथ पीछे खींचती है और दूर से ही उसे सिखाती है। वह कहता है, क्या यह ठीक है? अनिरुद्ध की आवाज सुनकर वह चौंक जाती है। वह कहते हैं, मैंने तुमसे कहा था कि मैं अपनी भावनाओं को व्यक्त करूंगा और आज मैं सबके सामने वह करूंगा।

रिश्ता तेरा मेरा… निभाता है। वह कहती है, नहीं। वह कहता है, हाँ। ठाकुमा वहां आती है और अनिरुद्ध / कृष्ण को समारोह शुरू करने के लिए कहती है। अनिरुद्ध जाता है। चंद्रचूड़ सोचता है कि यह बोंदिता को रस पिलाने का समय है। अनिरुद्ध चंद्रचूर को बोंदिता और उसे जूस पीने के लिए जोर देते हुए देखता है।

चंद्रचूड़ सोचता है कि बोंदिता को अपना बनाने के लिए वह कुछ भी करेगा। बोंदिता अनिरुद्ध की ओर देखती है और मन ही मन कहती है, सखा बाबू, तुम यहाँ से चले जाओ। वह मन ही मन कहता है, कि मैं तब तक नहीं जाऊंगा, जब तक कि मैं तेरा अंगीकार न कर लूं और तेरा अंगीकार न सुन लूं। वह आगे सोचता है कि बोंदिता की हां या ना उनके प्यार की किस्मत तय करेगी। वह जो भी निर्णय लेगी वह उसका भी निर्णय होगा क्योंकि वह उसका प्यार जीतना चाहता है, वह अपने प्यार को उस पर थोपना नहीं चाहता है।

image Source & Credit

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close