सितंबर में मिलेगी बच्चों की कोरोना वैक्सीन, 12 से 18 साल की उम्र के लोगों को लगेगा टीका

नई दिल्ली : भारत के दवा महानियंत्रक (डीजीसीआइ) की तरफ से इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी मिलने के बाद कोरोना रोधी जायकोव-डी वैक्सीन बनाने वाली कंपनी जायडस कैडिला ने कहा है कि सितंबर 2021 के मध्य से उसकी वैक्सीन देश में मिलनी शुरू हो जाएगी।

कीमत की घोषणा दो हफ्ते के भीतर कर दी जाएगी। कीमत के बारे में कंपनी की बातचीत सरकार की एजेंसियों के साथ एक हफ्ते के भीतर शुरू होगी और इस पर जल्द ही अंतिम फैसला होने की संभावना है।

जायडस कैडिला के एमडी डा. शरविल पटेल ने बताया कि कीमत का फैसला सरकारी एजेंसियों से विमर्श के बाद तय होगा। लेकिन यह निश्चित है कि कीमत अभी देश में मौजूद दूसरी कोरोना वैक्सीन की कीमतों के आसपास ही रहेगी, ताकि आम जनता पर ज्यादा बोझ नहीं पड़े। यह कोरोना महामारी के खिलाफ दुनिया की पहली डीएनए आधारित वैक्सीन होगी।

कंपनी की भावी योजना के बारे में विस्तार से बताते हुए डा. पटेल ने कहा कि सरकार से पांच से सात दिनों के भीतर वार्ता में मुख्य तौर पर तीन चीजों का निर्धारण किया जाना है। पहली यह कि कीमत क्या हो।

दूसरी, सरकार हमारी कितनी वैक्सीन खरीदेगी और तीसरी, हमें निजी क्षेत्र को कितनी वैक्सीन बेचने की इजाजत मिलती है। यह पूछे जाने पर कि कंपनी कब तक वैक्सीन सरकार को देने लगेगी? इस पर उनका जवाब था कि हमारे प्लांट में अगले महीने की शुरुआत से इसका उत्पादन शुरू हो जाएगा। सब कुछ ठीक रहा तो तत्काल विभिन्न एजेंसियों के जरिये इसका वितरण भी शुरू हो जाएगा।

वैसे अक्टूबर के अंत तक एक करोड़ डोज वैक्सीन और जनवरी 2022 के अंत तक कुल पांच करोड़ डोज की आपूर्ति किए जाने की संभावना है। कंपनी ने कहा है कि सालाना आधार पर इस वैक्सीन की 12 करोड़ डोज बनाने की उसकी क्षमता होगी, जिसे जरूरत पड़ने पर बाद में बढ़ाया जा सकेगा।

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close