किसान आंदोलन की वजह से रिलायंस, वॉलमार्ट को करोड़ों रुपये का नुकसान! महीनों से बंद हैं कई स्टोर

बठिंडा : पंजाब में कृषि कानून विरोधी आंदोलनकारियों के प्रदर्शन के चलते अदाणी ग्रुप के लुधियाना स्थित लाजिस्टिक पार्क और फिरोजपुर स्थित साइलो प्लांट बंद होने के बाद अब एक अन्य बड़ी कंपनी वालमार्ट ने बठिंडा में अपना बेस्ट प्राइज स्टोर बंद करने का फैसला किया है।

अदाणी ग्रुप के दोनों प्लांट बंद होने से जहां 800 लोग सीधे तौर पर बेरोजगार हो गए हैं। वहीं, इस स्टोर के बंद होने से यहां पर काम करने वाले करीब 200 कर्मियों की नौकरी पर संकट खड़ा हो गया है।

इस स्टोर के बाहर आंदोलनकारी नेता एक अक्टूबर 2020 से धरना देकर बैठे हैं। स्टोर बंद होने का सीधा असर यहां काम करने वाले कर्मचारियों के अलावा उन लोगों पर पड़ेगा जोकि अपने व्यवसाय के लिए इस स्टोर पर निर्भर थे। बठिंडा में कंपनी का 50 हजार वर्गफुट का होलसेल स्टोर है।

जहां से छोटे दुकानदार अपनी दुकानों के लिए सामान लेकर जाते थे, लेकिन किसानों के धरने के कारण स्टोर को करोड़ों रुपये का नुकसान होने के कारण इसे बंद करने का फैसला लिया गया है।

स्टोर बंद करने के बाद कंपनी की ओर से पंजाब में ई-कामर्स के द्वारा काम करने के प्रयास किए जा रहे हैं। इसके लिए कंपनी की ओर से राज्य में एक उपयुक्त स्थान की तलाश की जा रही है जहां पर नया गोदाम खोल आनलाइन आर्डर करने वालों को सप्लाई दी जाएगी।

स्टोर में वर्तमान में 200 से अधिक कर्मचारी हैं, लेकिन उनमें से कई अपनी नौकरी खो सकते हैं। यही नहीं स्टोर के बंद होने से अन्य व्यवसायों पर भी प्रभाव पड़ेगा, जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से वालमार्ट स्टोर को सामान की आपूर्ति कर रहे थे।

भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) उगराहां के अध्यक्ष जोगिंदर सिंह ने कंपनी को कर्मचारियों की छंटनी के खिलाफ चेतावनी दी है। कहा कि अगर कर्मचारियों की छंटनी करते हैं तो वह कंपनी के एक भी स्टोर को पंजाब में नहीं चलने देंगे।

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close