कोरोना की तीसरी लहर आई तब भी इकोनॉमी में जारी रहेगी रिकवरी- वित्त मंत्रालय

नई दिल्ली : वित्त मंत्रालय का मानना है कि अगर कोरोना की तीसरी लहर आ भी जाती है, तब भी चालू वित्त वर्ष अगली तीन तिमाहियों के दौरान इकोनामी में तेज रिकवरी होगी।

गुरुवार को अपनी रिपोर्ट में वित्त मंत्रालय ने कहा है कि टीकाकरण में लगातार बढ़ोतरी और बेहतर कोरोना प्रबंधन के अनुभव से अब यह भरोसा किया जा सकता है कि तीसरी लहर के बावजूद अर्थव्यवस्था की रिकवरी प्रभावित नहीं होगी। केंद्र सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआइ) की तरफ से किए गए उपायों की बदौलत चालू वित्त वर्ष की अगली तीन तिमाहियों में पहली तिमाही के मुकाबले तेज रिकवरी होगी।

मंत्रालय ने कहा है कि आठ सितंबर तक देश की 60 फीसद व्यस्क आबादी टीके की कम से कम एक डोज ले चुकी है। हालांकि रिपोर्ट में एक बार फिर से डेल्टा वेरिएंट को लेकर चिंता जाहिर की गई है और इसे रोकने के लिए जांच में बढ़ोतरी के साथ कोरोना रोकथाम व्यवहार को जारी रखने की हिदायत दी गई है।

मंत्रालय ने कहा है कि दूसरी लहर के मंद पड़ते ही कोर सेक्टर के औद्योगिक उत्पादन, पीएमआइ मैन्यूफैक्चरिंग, स्टील खपत, आटो बिक्री, ट्रैक्टर बिक्री, पेट्रोलियम उत्पादों की खपत, जीएसटी संग्रह, यूपीआइ ट्रांजेक्शन जैसे आर्थिक सूचकांक में तेजी दिखने लगी। वर्ष 2008 में वैश्विक मंदी के दौरान भारत की जो आर्थिक स्थिति थी, फिलहाल उससे बेहतर स्थिति है। अगस्त में बैंक कर्ज में 6.55 फीसद की बढ़ोतरी रही।

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close