“बेटियाँ अब बोझ नहीं वरदान है” : मप्र के सभी ज़िलों में सेवा पखवाड़े में लाड़ली लक्ष्मी और उनके अभिभावकों को किया सम्मानित

भोपाल  : राज्य शासन द्वारा 17 सितंबर से 2 अक्टूबर तक सेवा पखवाड़े का आयोजन किया जा रहा है। इसी कड़ी में गुरूवार को सभी ज़िलों में लाड़ली लक्ष्मी और उनके अभिभावकों को सम्मानित किया गया। विभिन्न ज़िलों में हुए कार्यक्रमों में लाड़ली बालिकाओं को प्रमाण-पत्र वितरित किए गए।

विशेष उपलब्धि प्राप्त करने वाले लाड़ली का सम्मान एवं लगभग 7 हज़ार बालिकाओं का स्वास्थ्य परीक्षण भी कराया गया है। बालिकाओं के जन्म को प्रोत्साहित करने, उनकी शिक्षा और भेदभाव को मिटाने के उद्देश्य से नाटक की प्रस्तुति की गई।

कार्यक्रम में मार्शल आर्ट से प्रशिक्षित बालिकाओं द्वारा अपनी कला का प्रदर्शन किया गया। इससे यह संदेश दिया गया कि बालिकाएँ अपनी सुरक्षा कैसे कर सकती है। माँ तुझे प्रणाम योजना में बॉर्डर पर गई बालिकाओं ने अपने अनुभव साझा किए।

सेवा पखवाड़े में सभी ज़िलों में मंत्रीगण, सांसद, विधायक, एवं जन-प्रतिनिधियों द्वारा लाड़ली लक्ष्मियों के अभिभावकों को इस आशय का संकल्प दिलाया कि वे अपनी बेटियों को उच्च शिक्षा दिलाएँगे और शासन द्वारा निर्धारित आयु से पूर्व विवाह नहीं कराएँगे।

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close