शिविर में गड़बड़ करने वालों पर होगी कार्यवाही : लाड़ली बहना योजना में अब तक आये 32 लाख आवेदन !


भोपाल  : मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि लाड़ली बहना योजना के लिए लगाए जा रहे शिविरों में शासकीय अधिकारी-कर्मचारी और जन-प्रतिनिधियों द्वारा योजना के प्रावधानों और आवेदन प्रक्रिया की जानकारी दी जा रही है। शिविरों में कुछ तत्व बहनों को योजना में अधिक राशि देने के वायदे कर बहकाने का कार्य कर रहे हैं।

ऐसे तत्वों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जाएगी। आवश्यकता हुई तो शासकीय कार्य में बाधा पहुँचाने का दोषी मान कर दंडात्मक कार्यवाही की जाएगी। मुख्यमंत्री ने आज मुख्यमंत्री निवास स्थित समत्व भवन से जिलों के कलेक्टर्स से वीडियो कॉन्फ्रेंस द्वारा लाड़ली बहना योजना के संबंध में चर्चा की। जन-प्रतिनिधि भी वर्चुअल शामिल हुए।

सीमावर्ती जिले ध्यान रखें, बाहर के आवेदन न आएँ : मुख्यमंत्री ने कहा कि लाड़ली बहना योजना की लोकप्रियता दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है। प्रदेश के ऐसे जिले जो अन्य प्रांतों की सीमा से लगे हुए हैं, वहाँ प्रदेश के बाहर के आवेदक योजना का लाभ लेने का प्रयास कर रहे हैं।

ऐसे प्रयास नियम विरूद्ध हैं, ऐसे आवेदनों को किसी भी स्थिति में स्वीकृत नहीं किया जाएगा। गलत जानकारी देकर पड़ोसी राज्यों के आवेदक योजना का लाभ नहीं ले सकते। सीमावर्ती जिले में यह ध्यान रखें कि बाहर के आवेदक न आएँ। कलेक्टर्स ऐसे मामलों पर नजर रखें और आवश्यक कार्यवाही करें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि योजना के लिए आधार लिंक बैंक खातों को आवश्यक माना गया है। इसके लिए किए जा रहे कार्य में सभी का सहयोग मिल रहा है। रामनवमी के त्यौहार के दिन भी जिलों में आवेदन-पत्र भरे गए। अनेक जिलों में बहुत अच्छा कार्य हुआ है। मुख्यमंत्री ने ऐसे जिलों को बधाई दी।

"

मुख्यमंत्री  ने कहा कि प्रदेश के सभी जिलों में विभिन्न माध्यमों से योजना का अच्छा प्रचार हुआ है। योजना की जानकारी ग्राम-ग्राम तक पहुँचाने के लिए दीवार लेखन उपयोगी माध्यम है। अनेक जिलों में दीवार लेखन का उपयोग कर बहनों को योजना के प्रावधान बताए जा रहे हैं, यह प्रशंसनीय प्रयास है। शहरी क्षेत्रों में सोशल मीडिया के उपयोग से भी इस महत्वाकांक्षी योजना के बारे में लाखों बहनों तक जानकारी पहुँची है। प्रदेश में योजना के प्रपत्र भरवाने का कार्य भी तेज हो चला है। एक अभियान के रूप में इस कार्य को किया जा रहा है। अभी तक 32 लाख से ज्यादा बहनें योजना का फायदा लेने के लिए आवेदन कर चुकी हैं।

जन-प्रतिनिधियों ने बताया-योजना के लिए दिख रहा है उत्साह और मिल रहें सुझाव : सतना सांसद  गणेश सिंह ने कहा कि योजना के लिए निरंतर प्रपत्र भरवाए जा रहे हैं। सप्ताह में एक अवकाश का प्रावधान भी किया जा सकता है। सागर के  सुशील तिवारी ने बताया कि नगर निगम के प्रयासों और जन-प्रतिनिधियों के सहयोग से यह योजना बहुत सफल होगी। मुख्यमंत्री  के प्रति बहनें आभार व्यक्त कर रही हैं। नगरीय क्षेत्र में मातृ शक्ति में उत्साह है, ऐसी क्रांतिकारी योजना के लिए अनेक जन-प्रतिनिधि भी मुख्यमंत्री को साधुवाद दे रहे हैं। धार जिले से चर्चा में जुड़ी विधायक नीना वर्मा ने कहा कि योजना महिलाओं के लिए लाभकारी है। रीवा जिले से विधायक  केदार शुक्ला, सीहोर जिले से करण सिंह वर्मा, खण्डवा जिले से विधायक देवेन्द्र वर्मा और उज्जैन जिले से विधायक  पारसचंद्र जैन ने भी अनेक सुझाव दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि जन-प्रतिनिधियों के सुझावों पर आवश्यक कदम उठाए जाएंगे।

मुख्यमंत्री के निर्देश

योजना के लिए प्रक्रिया से जुड़ी दिक्कत न हो। कलेक्टर्स, बैंकर्स से चर्चा करें।

● तकनीकी समस्याओं को दूर किया जाए।

● सोशल मीडिया पर प्रपत्र भरवाने का भी चित्र सहित प्रचार करें। 

● यथा संभव वॉल पेंटिंग, जागरूकता रथ और गीत प्रसारण से जानकारी दी जाए।

●प्रपत्र भरवाने में अधिक भीड़ होने पर टोकन की व्यवस्था की जा सकती है। 

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close