टीकाकरण के अनूठे प्रयोगों से प्रदेश भर में दतिया को मिला पहला स्थान,‘टीका नहीं तो वेतन नहीं’ का फार्मूला अपनाने की तैयारी

Datia News : दतिया । प्रदेशभर में कोरोना टीकाकरण करने वाले जिलों में दतिया ने अब्बल रहा है। प्रदेश की जिले वार वैक्सीनेशन की िस्थति को लेकर कोरोना टीकाकरण की एक सूची जारी की गई है। इस सूची में कोरोना टीकाकरण के दूसरे डोज लगाने में दतिया जिला प्रदेश में पहले नंबर पर आ गया है।

वैक्सीनेशन में दतिया ने एक बार फिर से बाजी मारी है। अभी तक दतिया जिला रैकिंग में दूसरे नंबर पर था। यह सब स्वास्थ्य व जिला प्रशासन द्वारा किए गए अनूठे प्रयोग के कारण संभव हो पाया है।

अनूठे प्रयोगों में ‘टीका नहीं तो राशन नहीं’ और ‘टीका नहीं तो वेतन नहीं’ जैसे प्रयोग किए जाने की तैयारी है, ताकि राशन लेने की चाहत में लोग अधिक से अधिक कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा डोज भी लगवा सकें।

इसके अलावा भी कई प्रयोगों ने जिले में टीकाकरण अभियान को अव्वल बनाया है। प्रदेश में पहला स्थान मिलने के साथ ही अब फिर से प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग लक्ष्य को पूरा करने में जुट गया है।

जिला टीकाकरण अधिकारी डा.सोनी ने बताया कि प्रदेश में अव्वल आने के लिए प्रशासन और सभी विभागों का सहयोग मिला है। कोरोना टीकाकरण के द्वितीय डोज में दतिया अव्वल नंबर पर है, वही दूसरे नंबर पर उमरिया, तीसरे नंबर पर मुरैना, चौथे नंबर पर बालाघाट व छिंदवाड़ा बराबरी पर चल रहे हैं।

width="500"

जिले में कोरोना वैक्सीन के द्वितीय डोज 3 लाख 22 हजार अभी तक लगाए जा चुके हैं। टीके के प्रथम डोज कुल 5 लाख 61 हजार 323 लगाए जा चुके हैं। 2 लाख 39 हजार ही टीके दूसरे डोज में लगाने का लक्ष्य है। इसके लिए जिले में बुधवार व गुरुवार को 20-20 हजार टीके लगाने के लक्ष्य के साथ महाअभियान शुरू किया गया है।

पूरे प्रदेश में सिर्फ 2 दिन का यह महाअभियान है, जबकि दतिया में अतिरिक्त रूप से 1 दिन और यह अभियान चलाया जाएगा। कलेक्टर संजय कुमार ने बताया कि 31 दिसंबर तक कोरोना वैक्सीनेशन का द्वितीय डोज लगाने का लक्ष्य दिया गया है।

हम इसे 15 दिसंबर तक पूरा करने का प्रयास कर रहे हैं। इसमें यदि लोगों के साथ सख्ती भी की जानी पड़े, तो वह भी हम करेंगे। सभी विभागों को इस कार्य में लगाया है।

राशन दुकानों पर बैठकर स्वास्थ्य कर्मचारी रखेगा निगरानी

राशन की दुकानों पर स्वास्थ्य विभाग का एक कर्मचारी तैनात किया जा रहा है। जो वहां राशन वितरण के दौरान सूची में मिलान करेगा कि किसी उपभोक्ता परिवार ने वैक्सीनेशन करा लिया है और किसी ने नहीं। जिस परिवार के सदस्यों ने टीकाकरण नहीं कराया उन्हें राशन वितरण नहीं होगा।

राशन न मिल पाने की िस्थति में लोग जीवन रक्षक टीका लगवाने की ओर प्रेरित हो सकेंगे। इसी तरह सरकारी कर्मचारियों को भी वेतन वितरण के दौरान यह जांच की जाएगी की उन्होंने वैक्सीन लगवाई कि नहीं। जिन कर्मचारियों को टीका नहीं लगा उनका वेतन रोकने की कार्रवाई की जाएगी।

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close