जहांगीरपुरी : कांग्रेस बोली- बुलडोजर से सिर्फ मकान ही नहीं संविधान भी हो रहा ध्वस्त

नई दिल्ली :  दिल्ली के हिंसा प्रभावित इलाके जहांगीरपुरी में बुधवार को अतिक्रमण विरोधी अभियान से पहले बड़ी संख्या में पुलिस और अर्धसैनिक बलों के जवानों को तैनात किया गया है। एनडीएमसी के महापौर राजा इकबाल सिंह ने इस कार्रवाई को नियमित अभियान करार दिया है।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) शासित उत्तरी दिल्ली नगर निगम (एनडीएमसी) ने जहांगीरपुरी में दो दिवसीय अतिक्रमण विरोधी अभियान चलाए जाने की घोषणा की है। इससे पहले, भाजपा की दिल्ली इकाई के प्रमुख आदेश गुप्ता ने मंगलवार को एनडीएमसी के महापौर को जहांगीरपुरी में “दंगाइयों” के अवैध निर्माण की पहचान करने और बुलडोजर का उपयोग करके उन्हें ध्वस्त करने के लिए एक पत्र लिखा था।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के करीब 2 घंटे बाद तक जहांगीरपुर में तोड़फोड़ होती रही : उत्तर दिल्ली नगर निगम की तरफ से हिंसा वाली जगह जहांगीरपुरी में बुधवार को तोड़फोड़ की गई. सुप्रीम कोर्ट की तरफ से इस पर रोक लगाने के निर्देश दिए जाने के करीब 2 घंटे बाद तक बुलडोजर से अवैध निर्माण पर कार्रवाई होती रही. हालांकि, बाद में दिल्ली पुलिस के स्पेशल पुलिस कमिश्नर दीपेन्द्र पाठक ने बताया कि बुलडोजर की कार्रवाई रोक दी गई है.

जहां अतिक्रमण हटना है उसी गली में असलम और सोनू चिकना का भी घर : दंगे के आरोपी गुल्ली का जन्म 1995 में हुआ था. वह पढ़ा लिखा नहीं है, मजदूरी करता है. जहांगीरपुरी सी ब्लॉक में उसका घर है. सलीम चिकना का जन्म साल 1985 का है और वह कबड्डी खेलता है. इसका भी घर जहांगीरपुरी सी ब्लॉक में है. जहां अतिक्रमण हटना है उसी गली में असलम और सोनू चिकना का भी मकान आता है.

 

महापौर राजा इकबाल सिंह ने कहा, “हमारे जेसीबी (खुदाई मशीन) और कर्मचारी सड़कों और सरकारी जमीन से अवैध अतिक्रमण हटाने के लिए जहांगीरपुरी जाएंगे। यह हमारा नियमित अभियान है। हम इसे अंजाम देंगे और वापस लौटेंगे।”

अधिकारियों ने कहा कि सुरक्षाबलों के जवान इलाके में फ्लैग मार्च कर रहे हैं और अभियान शुरू होने से पहले उन्होंने स्थिति का जायजा लिया है। स्थिति पर नजर रखने के लिए ड्रोन भी तैनात किया गया है।
इस अभियान से पहले जहांगीरपुरी सी ब्लॉक में लोगों ने स्वेच्छा से अपना सामान सड़क किनारे से हटा दिया।


एनडीएमसी ने दो दिवसीय इस अभियान के दौरान कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए मंगलवार को दिल्ली पुलिस से कम से कम 400 सुरक्षाकर्मी उपलब्ध कराने का अनुरोध किया था। गौरतलब है कि उत्तर-पश्चिमी दिल्ली के जहांगीरपुरी में शनिवार को हनुमान जयंती के जुलूस के दौरान दो समुदायों के बीच पथराव, आगजनी और गोलीबारी की घटनाएं हुई थीं। हिंसा में आठ पुलिसकर्मियों के अलावा एक स्थानीय नागरिक घायल हो गया था।

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close