वोटिंग को बढ़ावा देने के लिए EC की पहल : ”मैं भारत हूं”, चुनाव आयोग के इस गाने ने सोशल मीडिया पर मचाया तहलका

नई दिल्ली  : भारत निर्वाचन आयोग (ईसीआई) इस साल होने वाले नौ विधानसभा चुनावों और अगले साल की शुरुआत में लोकसभा चुनावों की तैयारी कर रहा है, जिसका उद्देश्य नवीन संचार रणनीतियों के माध्यम से मतदान के प्रतिशत को बढ़ाना है। एक पहल के रूप में, भारत निर्वाचन आयोग ने सुभाष घई फाउंडेशन के सहयोग से एक गीत- ‘मैं भारत हूं, हम भारत के मतदाता हैं’ को तैयार किया, जिसमें जीवन के विभिन्न क्षेत्रों की मशहूर हस्तियों को दिखाया गया है और मतदाताओं से वोट डालने और उनसे अपने संवैधानिक कर्तव्य को पूरा करने की अपील की गई है। 

13वें राष्ट्रीय मतदाता दिवस (एनवीडी)- 25 जनवरी, 2023 को भारत की माननीय राष्ट्रपति की उपस्थिति में प्रदर्शित किया गया यह गीत पहले से ही मशहूर हस्तियों और प्रभावित करने वाले लोगों के माध्यम से सोशल मीडिया पर लोकप्रिय हो रहा है। इसके लॉन्च होने के एक हफ्ते के भीतर, गाने के हिंदी और बहुभाषी संस्करण को पहले ही 3.5 लाख से अधिक बार देखा जा चुका है और चार प्रमुख सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म- फेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्विटर और यूट्यूब पर 5.6 लाख इंप्रेशन मिल चुके हैं।

यह गीत भारत निर्वाचन आयोग के ‘सुव्यवस्थित मतदाता शिक्षा एवं निर्वाचक सहभागिता कार्यक्रम’ की ऐसी पहलों में से एक है, जो भारत निर्वाचन आयोग के ‘कोई मतदाता पीछे न छूटे’ के आदर्श वाक्य के तहत सभी श्रेणियों के मतदाताओं से भागीदारी बढ़ाने के लिए समावेशी रणनीतियों और कार्य योजनाओं पर केंद्रित प्रमुख मतदाता शिक्षा कार्यक्रम है। इस गीत का उद्देश्य न केवल मतदाताओं को लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए उनके अधिकारों और जिम्मेदारी के बारे में शिक्षित करना है, बल्कि उन्हें चुनावी प्रक्रिया में अधिक से अधिक भागीदारी के लिए उत्साहित करना भी है।

इस गीत को मुख्य निर्वाचन आयुक्त राजीव कुमार के नेतृत्व वाले निर्वाचन आयोग और  सुभाष घई के नेतृत्व वाली टीम के बीच निर्वाचन आयुक्त  अनूप चंद्र पाण्डेय और निर्वाचन आयुक्त  अरुण गोयल की उपस्थिति में कई दौर की बातचीत के बाद अंतिम रूप दिया गया। इस गीत के बारे में, मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने कहा, “यह गीत प्रत्येक मतदाता को समर्पित है, जो अपने राष्ट्रीय कर्तव्य पर ध्यान देता है और सभी बाधाओं को पार करते हुए अपना वोट डालता है। यह गीत नए मतदाताओं को प्रेरित करता है, भविष्य के मतदाताओं और युवा मतदाताओं को प्रोत्साहित करता है, सौ वर्ष की आयु के मतदाताओं, सैनिक मतदाताओं,

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image003MTH7.jpg

"

पीडब्ल्यूडी मतदाताओं की आकांक्षाओं को दर्शाता है, 2019 के चुनावों में पुरुष मतदाताओं को महिला मतदाताओं द्वारा पछाड़ते हुए लोकतंत्र में विश्वास दिखाने का उत्सव मनाता है और भारत निर्वाचन आयोग और स्वयं के लिए एक नया लक्ष्य निर्धारित किया है। भारत की विविधता और जनसांख्यिकी का उत्सव मनाते हुए, गीत एनवीडी 2023 की थीम ‘मतदान जैसा कुछ नहीं, मैं मतदान जरूर करता हूं’ में योगदान देने का प्रयास करता है।”

गीत की कुछ उल्लेखनीय विशेषताएं हैं – 

1. गीत के प्रेरक पंक्तियां प्रसिद्ध फिल्म निर्माता सुभाष घई द्वारा व्हिस्लिंग वुड्स इंटरनेशनल स्कूल ऑफ म्यूजिक, मुंबई के सहयोग से लिखी और संगीतबद्ध की गयी हैं।

2. इस गीत को हिंदी और 12 क्षेत्रीय भाषाओं, यथा बंगाली, मराठी, गुजराती, पंजाबी, तमिल, तेलुगू, कन्नड़, मलयालम, असमिया, उड़िया, कश्मीरी, संथाली में गाया गया है, जो अधिकतम भौगोलिक क्षेत्र को कवर करते हैं।

3. ‘मैं भारत हूं’ गीत का कोरस सभी संस्करणों में एक समान है।

4. हिंदी संस्करण में प्रसिद्ध गायक सुखविंदर सिंह, कविता कृष्ण मूर्ति, सोनू निगम, हरि हरण, अलका याज्ञनिक, जावेद अली, केएस चित्रा, कौशिकी चक्रवर्ती, उस्ताद राशिद खान ने अपनी आवाजें दीं हैं।

5. गीत के क्षेत्रीय संस्करण में प्रसिद्ध गायक कौशिकी चक्रवर्ती, वैशाली सामंत, भूमि त्रिवेदी, मीका सिंह, के.एस. चित्रा, मनो, विजय प्रकाश, विजय येसुदास, पापोन, दीप्ति रेखा पाधी, मेहमीत सैयद, पंकज जल हैं।            

6. गीत विभिन्न संस्करणों में जारी किया गया है- हिंदी संस्करण, बहुभाषी संस्करण, वाद्य संस्करण, पियानो संस्करण, अंतर्राष्ट्रीय साउंडट्रैक और रिंगटोन संस्करण।

7. गीत में विविध मतदाता समूहों को दर्शाया गया है, जिनमें महिला मतदाता, युवा मतदाता, सौ वर्ष की आयु के मतदाता, पीडब्ल्यूडी मतदाता आदि शामिल हैं, जो समावेशी और आसान चुनाव प्रक्रिया को रेखांकित करते हैं।           

8. यह गीत, देश की क्षेत्रीय विविधता तथा सांस्कृतिक, सामाजिक-आर्थिक और भौगोलिक पहलुओं को केंद्र में रखते हुए तैयार किया गया है और इसलिए मतदाता की शक्ति का प्रतिनिधित्व करता है।

9. इस गीत के वीडियो में भारत निर्वाचन आयोग (ईसीआई) के आइकन पंकज त्रिपाठी के साथ-साथ अनिल कपूर, सिद्धार्थ मल्होत्रा, आर. माधवन, सुबोध भावे, प्रोसेनजीत चटर्जी, मोहनलाल, कपिल बोरा, सूर्या, गिप्पी ग्रेवाल, शुभमन गिल, हर्षल पटेल, इशान किशन, हार्दिक पांड्या, युजवेंद्र चहल, सूर्यकुमार यादव, श्रेयस अय्यर जैसी प्रसिद्ध हस्तियां भी ‘एक वोट के महत्व’ पर जोर देती नजर आती हैं।

10. अनुभवी निर्देशक, निर्माता और लेखक सुभाष घई, सोनू निगम, उस्ताद राशिद खान, के.एस. चित्रा, दीप्ति रेखा पाधी, वैशाली सामंत, मेहमीत सैयद, पापोन, अभिषेक बोंथू जैसे गायकों और ईसीआई के आइकन पंकज त्रिपाठी ने नई दिल्ली में 13वें राष्ट्रीय मतदाता दिवस समारोह की शोभा बढ़ाई।    

11. इस गीत के बोल इस भावना से प्रेरणा लेते हैं कि हर भारतीय भारत से प्यार करता है। उनकी आत्मा, दिल, दिमाग और शरीर गर्व के साथ भारत की बात करते हैं क्योंकि दुनिया के एक मजबूत लोकतंत्र के रूप में इसकी जड़ें बेहद प्राचीन हैं और यह अपने उज्ज्वल भविष्य के साथ प्रगतिशील व आधुनिक है। प्रत्येक भारतीय को यह कहने में गर्व महसूस होता है कि ‘मैं भारत हूं’ क्योंकि वे हमारे देश में शासन करने और इस देश का निर्माण करने के लिए सर्वश्रेष्ठ कार्यपालिका का चुनाव करने में एक व्यक्ति के वोट की शक्ति को जानते हैं। इस गीत को प्रत्येक मतदाता को आधुनिक भारत के सर्वश्रेष्ठ वास्तुकारों में से एक बनने की आकांक्षा रखने के लिए तैयार किया गया है, जो अपने कर्तव्य के साथ-साथ अपने देश के लिए मतदान करने के अधिकार को समझते हैं, भले ही उनकी हैसियत, वर्ग, धर्म, जाति, स्थान, भाषा और लैंगिक पहचान कुछ भी हो। यही कारण है कि वे एक साथ गाते हुए गर्व महसूस करते हैं जैसा कि इस गीत में कहा गया है – “मैं भारत हूं- भारत है मुझसे – हम भारत के मातदाता हैं- मतदान देने जायेंगे भारत के लिए…”

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close