शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान का बड़ा बयान, कहा-12वीं तक के छात्रों के लिए योग बनेगा पाठ्यक्रम का अनिवार्य हिस्सा

शिमला : केन्‍द्रीय शिक्षा और कौशल विकास मंत्री धर्मेन्‍द्र प्रधान ने  हिमाचल प्रदेश के प्रतिष्ठित स्थान कांगड़ा फोर्ट में आईडीवाई 2022 कार्यक्रम में भाग लिया। उन्होंने 400 से अधिक छात्रों और अन्य गणमान्य व्यक्तियों के साथ कांगड़ा फोर्ट में योग किया। आईडीवाई 2022 का विषय “मानवता के लिए योग” है। इस अवसर पर  प्रधान ने कहा कि योग शरीर, मन और आत्मा के सामंजस्य का सूक्ष्म विज्ञान है। योग अच्छे स्वास्थ्य और कल्याण का आधार है।

उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 ने योग को महत्व दिया है और इसे बालवाटिका से कक्षा 12वीं तक के पाठ्यक्रम का हिस्सा बनाया जा रहा है। केन्‍द्रीय शिक्षा मंत्री ने शैक्षणिक संस्थानों से योग पर शोध और चर्चा कराने का आह्वान किया।

शिक्षा मंत्री ने कहा कि कांगड़ा फोर्ट के शांत वातावरण में योग परमानंद था। उन्होंने कांगड़ा फोर्ट को हिमाचल प्रदेश की विरासत का खजाना बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी को धन्यवाद दिया जो अनूठी ‘गार्जियन रिंग’ पहल का हिस्सा है।

प्रधान ने सभी से एक शांतिपूर्ण और समृद्ध विश्व के लिए योग को जीवन शैली के रूप में अपनाने का संकल्प लेने का आग्रह किया। योग एकता की भावना को जोड़ता है और आगे बढ़ाता है। योग सभी के लिए है।

शिक्षा राज्य मंत्री, सुभाष सरकार ने पश्चिम बंगाल में बेलूर मठ में, शिक्षा राज्य मंत्री, अन्नपूर्णा देवी ने द ग्रेट लिविंग चोल मंदिर, तंजावुर, तमिलनाडु में और शिक्षा राज्य मंत्री राजकुमार रंजन सिंह ने एलीफेंट टेरेस, अंगकोर आर्कलॉजिकल पार्क, सीऐम रीप, कंबोडिया में आईडीवाई में भाग लिया।

आज़ादी का अमृत महोत्सव (एकेएएम) समारोहों के साथ पूरी दुनिया में भव्य तरीके से समारोह आयोजित किए गए। आईडीवाई का मुख्य उद्देश्य लोगों के बीच योग के स्वास्थ्य लाभों के बारे में जन जागरूकता पैदा करना है। वर्षों से, आईडीवाई स्वास्थ्य के लिए जन आंदोलन बन गया है।

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close