कान फिल्म फेस्टिवल में अब तक का पहला ‘सम्मानित देश’ बना भारत : आर माधवन की फिल्म ‘रॉकेट्री’ का होगा वर्ल्ड प्रीमियर

लखनऊ : हर साल देश के कई सेलिब्रिटी कान फिल्म फेस्टिवल में हिस्सा लेते हैं, लेकिन साल 2022 का कान फेस्टिवल भारत के लिए बेहद खास होने वाला है, क्योंकि इस बार के कान फेस्टिवल में भारत को आधिकारिक तौर पर कंट्री ऑफ ऑनर के रुप में आमंत्रित किया गया है।इस बारे में केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने घोषणा की फ्रांस में कान फिल्म महोत्सव के 75वें संस्करण के साथ आयोजित किए जाने वाले आगामी मार्चे ’ डू फिल्म में भारत आधिकारिक रूप से ‘सम्मानित देश’ होगा।

इस निर्णय के बारे में विस्‍तार से बताते हुए मंत्री ने कहा, ‘यह पहली बार है जब मार्चे ‘ डू फिल्म को आधिकारिक रूप से एक ‘सम्मानित देश’ मिला है, और यह विशेष फोकस हर साल अलग-अलग देश पर इसके भावी संस्करणों में रहेगा।’ उल्लेखनीय है कि फ्रांस और भारत अपने राजनयिक संबंधों के 75 वर्ष पूरे कर रहे हैं, प्रधानमंत्री की पेरिस यात्रा और राष्ट्रपति मैक्रोन के साथ बैठक इस संदर्भ में और भी अधिक महत्व रखती है। इसी महत्वपूर्ण राजनयिक पृष्ठभूमि में भारत को कान फिल्म महोत्सव में मार्चे ’ डू फिल्म में ‘सम्मानित देश’ के रूप में चुना गया है।

इस घोषणा के बारे में विस्तार से बताते हुए  ठाकुर ने कहा कि ‘सम्मानित देश (कंट्री ऑफ ऑनर)’ के दर्जे ने मैजेस्टिक बीच पर आयोजित की जा रही मार्चे ’ डू फिल्म की ओपनिंग नाइट में फोकस कंट्री के रूप में भारत की उपस्थिति सुनिश्चित की है जिस दौरान भारत, इसके सिनेमा, इसकी संस्कृति और विरासत पर प्रकाश डाला जाएगा। लोक संगीत और आतिशबाजी के साथ भारतीय गायन बैंड का विशेष प्रदर्शन इस विशेष रात्रि को भारतीयमय बना देगा। इस दौरान परोसे जाने वाले व्यंजन भारतीय और फ्रेंच दोनों ही होंगे। 

मंत्री ने यह भी घोषणा की कि भारत भी ‘कान नेक्स्ट’ में सम्मानित देश है, जिसके तहत 5 नए स्टार्ट अप्स को ऑडियो-विजुअल उद्योग के बारे में बताने का अवसर दिया जाएगा। एनिमेशन डे नेटवर्किंग में दस प्रोफेशनल भाग लेंगे।

कान फिल्म महोत्सव के इस संस्करण में भारत की सहभागिता का एक अन्य आकर्षण  आर. माधवन द्वारा बनाई गई फिल्म ‘रॉकेट्री’ का वर्ल्ड प्रीमियर है। इस फिल्म को 19 मई 2022 को मार्केट स्क्रीनिंग के पैलेस डेस फेस्टिवल्‍स में दिखाया जाएगा। भारत को ‘गोज टू कान सेक्शन’ में 5 चयनित फिल्मों को प्रस्‍तुत करने का अवसर दिया गया है।

ये फिल्में फिल्म  ‘वर्क इन प्रोग्रेस लैब’ का हिस्सा हैं :

1. जयचेंग ज़क्सई दोहुतिया की बागजान – असमिया, मोरानी

2. शैलेंद्र साहू की बैलाडीला – हिंदी, छत्तीसगढ़ी

3. एकतारा कलेक्टिव की एक जगह अपनी (अ स्पेस ऑफ अवर ओन) – हिंदी

4. हर्षद नलवाडे की फॉलोवर – मराठी, कन्नड़, हिंदी

5. जय शंकर की शिवम्मा – कन्नड़

ओलंपिया स्क्रीन नामक एक सिनेमा हॉल 22 मई 2022 को “अब तक रिलीज नहीं की गई फिल्में’ प्रदर्शित करने के लिए भारत को समर्पित किया गया है। इस श्रेणी के तहत 5 फिल्में चुनी गई हैं।भारत में सत्यजीत रे की शताब्दी का जश्न कान में जारी है। दरअसल, सत्यजीत रे क्लासिक की एक रीमास्टर्ड क्लासिक ‘प्रतिद्वंदी’ को कान क्लासिक सेक्शन सिनेमा डे ला प्लेगे में दिखाया जाएगा।

एक समर्पित इंडिया फोरम ‘वन ऑवर कॉन्‍फ्रेंस’ को मुख्य मंच पर आयोजित किया जा रहा है, जिसमें मनोरंजन जगत की हस्तियां शामिल हैं और इसके जरिए ‘भारत को दुनिया के कंटेंट हब’ के रूप में स्थापित किया जाएगा। इंडिया फोरम में सैकड़ों मेहमान शामिल होंगे और इसकी ऑनलाइन स्ट्रीमिंग की जाएगी।

इस बार इंडिया पवेलियन की विशेषताओं पर बोलते हुए मंत्री महोदय ने कहा कि पवेलियन का एकमात्र फोकस भारत की ब्रांडिंग ‘विश्व के कंटेंट हब” के रूप में करने पर होगा। इस पवेलियन का उद्घाटन 18 मई, 2022 की सुबह होगा। यह देश की भाषाई, सांस्कृतिक और क्षेत्रीय विविधताओं में भारतीय सिनेमा को दर्शाएगा और वैश्विक समुदाय के प्रतिनिधियों के लिए नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म के रूप में काम करेगा।

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close