भीषण आग से जल उठे खेत : गांव में मची भगदड़, पांच एकड़ गेंहूं की फसल जलकर हुई राख, दतिया-भांडेर से पहुंची फायर बिग्रेड ने पाया काबू

Datia news : दतिया। उनाव थाना क्षेत्र ग्राम कामद में भूसा बनाने वाली मशीन से निकली चिंगारी ने रविवार दोपहर तांडव मचा दिया। देखते ही देखते चारों ओर खेतों में आग फैल गई। जिससे करीब पांच एकड़ में खड़ी गेहूं की फसल जलकर राख हो गई। लाखों रुपये की फसल आग की चपेट में आकर जलती देख किसानों में अफरा तफरी मच गई। गांव के लोगों ने आग बुझाने के प्रयास किए।

आगजनी की सूचना मिलते ही उनाव थाना प्रभारी अमर सिंह गुर्जर पुलिस बल के साथ ग्राम कामद पहुंचे। दतिया और भांडेर से फायर ब्रिगेड की गाड़ी बुलाई गई। फायर ब्रिगेड के काफी प्रयास के बाद भी खड़ी फसल को जलने से नहीं बचाया जा सका।

जानकारी के अनुसार रविवार दोपहर ग्राम कामद में राजाराम पाल, बालक दास पाल, अवधेश पाल, आत्माराम पाल, प्रीतम पाल, लालाराम पाल, महेंद्र पाल सहित एक ही परिवार के 11 लोगों के खेतों में भीषण आग लग गई। पीड़ितों के मुताबिक पड़ौस के खेत में भूसा बनाने वाली मशीन चल रही थी तभी अचानक मशीन के नीचे पत्थर आ जाने के कारण उसमें से चिंगारियां उठी और देखते ही देखते फसल ने आग पकड़ ली।

जब तक गांव वाले पहुंचते तब तक करीब पांच एकड़ खेत में खड़ी फसल जलकर राख हो गया। अन्य खेतों में आग पहुंचने से पहले उसे बुझाने का प्रयास गांव के अरविंद दांगी, अजय दांगी, प्रेमपाल, जितेंद्र पाल द्वारा किया गया। इस आगजनी में अनुमानित 6 लाख की फसल का नुकसान बताया जा रहा है।

पाल परिवार का कहना है कि हमारी पूरी साल की मेहनत जलकर राख हो गई है, अब कैसे उनके घर का खर्च चलेगा। सूचना मिलते ही मौके पर पटवारी पहुंचे। इस दौरान दाे फायर ब्रिगेड वाहनों ने भूसा बनाने वाली मशीन में लगी आग को भी बुझाया।

खेतों में आग फैलती देख मची अफरा तफरी :  कामद में जैसे ही खेतों में आग भड़की आसपास के किसानों में भी अफरा तफरी मच गई। हवा के साथ खेतों में आग बढ़ती चली जा रही थी। आग फैलती देख किसान अपने खेतों में खड़ी फसल को बचाने के लिए साधन तलाशने लगे।

कुछ लोगों ने पानी डालकर बुझाने का प्रयास किया लेकिन वह सफल नहीं हो सके। इसके बाद युवाओं ने ट्रैक्टर से खेत जुताई शुरू कर दी ताकि आग का फैलना रोका जा सके।

थाना प्रभारी गुर्जर ने आगजनी को देखते हुए दतिया एवं भांडेर से फायर बिग्रेड बुलाई। दोनों वाहनों ने किसी तरह आग पर काबू पाया। लेकिन फसलों नहीं बचाया जा सका।

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close