हरियाणा सरकार ने IPS धीरज कुमार को किया सस्पेंड, करोड़ों की चोरी मामले में शामिल होने का आरोप

चंडीगढ़ : हरियाणा सरकार ने गुरुग्राम में करोड़ों रुपये की चोरी के मामले में आरोपी के इकबालिया बयान के आधार पर आईपीएस अधिकारी को जांच से जुड़ने को कहने के कई दिन बाद शुक्रवार को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया।

रोहतक के सुनारिया में तीसरी इंडिया रिजर्व बटालियन के कमांडेंट के पद पर तैनात भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के अधिकारी धीरज कुमार को जांच से जुड़ने को कहा गया था।

गृह विभाग द्वारा जारी आदेश में कहा गया कि निलंबित रहने के दौरान कुमार का मुख्यालय पंचकूला स्थित पुलिस महानिदेशक का कार्यालय (पुलिस मुख्यालय) होगा। हालांकि, आदेश में निलंबन का कारण नहीं बताया गया है। कुमार पहले गुरुग्राम के पुलिस आयुक्त के पद पर तैनात थे।

सूत्रों ने बताया कि चोरी की साजिश रचने के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है।उन्होंने बताया कि विशेष कार्यबल (एसटीएफ), गुरुग्राम के सेक्टर 82 के आवासीय सोसायटी स्थित कंपनी के कार्यालय से इस साल अगस्त में करोड़ों रुपये की हुई चोरी की जांच कर रही है।

उन्होंने बताया कि दिल्ली पुलिस के अधिकारी सहित कुछ लोगों के नाम भी जांच के दौरान सामने आए हैं और उन्हें पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। पुलिस महानिरीक्षक (एसटीएफ) ममता सिंह ने फोन पर शुक्रवार को बताया कि कुमार को जांच में शामिल होने के लिए दो नोटिस भेजे गए हैं।

उन्होंने बताया कि आरोपी के इकाबलिया बयान के आधार पर पिछले महीने भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम-1988 की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया।

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close