हिमाचल के ग्लेशियर ने दो ट्रेकर्स को निगला, मौत, 14 अब भी फंसे, सेना के हेलीकाप्टर से निकालने के प्रयास

Mandi News : मंडी । हिमाचल प्रदेश के जनजातीय जिले लाहुल-स्पीति की पिन घाटी के खमिंगर ग्लेशियर में आक्सीजन की कमी से बंगाल के दो ट्रैकर्स की मौत हो गई। वहीं 14 अन्य लोग फंस गए हैं। इनमें चार ट्रैकर, एक गाइड व नौ मजदूर शामिल हैं। लाहुल-स्पीति प्रशासन ने राहत एवं बचाव कार्य के लिए 32 सदस्यीय दल गठित कर उसे खमिंगर ग्लेशियर के लिए रवाना कर दिया है।

भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आइटीबीपी) व सेना से मदद मांगी है। फंसे लोगों को हेलीकाप्टर की मदद से निकालने के लिए सेना के उच्च अधिकारियों से संपर्क किया जा रहा है। रेस्क्यू दल में आइटीबीपी के 16 जवान, छह डोगरा स्काउट के जवान व चिकित्सक तथा 10 मजदूर शामिल हैं।

भारतीय पर्वतारोहण फाउंडेशन बंगाल का छह सदस्यीय ट्रैकिंग दल 15 सितंबर को लाहुल के बातल से काजा वाया खमिंगर ग्लेशियर ट्रैक को पार करने के लिए रवाना हुआ था। इस दल के साथ लाहुल-स्पीति का एक गाइड व नौ मजदूर भी गए थे। ये लोग 5,034 मीटर की ऊंचाई पर स्थित खंमिगर ग्लेशियर में फंसे हैं।

रेस्क्यू दल को वहां पहुंचने में कम से कम तीन दिन लगेंगे। ग्लेशियर तक हेलीकाप्टर के माध्यम से पहुंचना भी संभव नहीं है। इसे देखते हुए फंसे लोगों को ऐसे स्थान तक लाने के प्रयास होंगे जहां से उन्हें हेलीकाप्टर से निकालना संभव होगा। राहत एवं बचाव कार्य पिन घाटी के काह गांव से शुरू होगा।

मंगलवार शाम तक रेस्क्यू दल काह से चंकथांगो पहुंचेगा। बुधवार को चंकथांगो से धार थांगो और गुरुवार को धारथांगो से खमिंगर ग्लेशियर पहुंचेगा। वहां से वापस काह गांव तक आने में इतना ही समय लगेगा।

इनकी हुई मौत : भास्कर देव मुखोपाध्याय, आनंदपुर बैरकपुर (कोलकाता) व संदीप कुमार ठाकुरता, पूव्यान अवासन बेलगोरिया (बंगाल)। ये लोग फंसे हैं देवाशीष बर्धन, रणधीर राय, तपस कुमार दास और अतुल के अलावा एक गाइड व नौ मजदूर। खमिंगर ग्लेशियर के लिए 16 सदस्यीय दल रवाना हुआ था। इनमें छह ट्रैकर थे।

ग्लेशियर में फंसने से दो की मौत हो गई है। अन्य को रेस्क्यू करने के लिए 32 सदस्यीय दल गठित किया गया है। ट्रैकिंग दल के फंसे होने की सूचना सोमवार सुबह ही स्पीति उपमंडल प्रशासन के माध्यम से मिली थी।

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close