‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’ टीवी शो में हर्ष ने अक्षरा पर लगाए इल्जाम, फिर रुक जाएगी शादी?

मुंबई : ‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’ टीवी शो में अक्षरा और अभि की शादी को लेकर अभी और ड्रामे होना बाकी हैं। जो दर्शकों को खूब मनोरंजन देने वाले हैं। बाप-बेटे के बीच का तनाव अब नया रंग लेने वाला है। शो में जहां अभि अपने पिता हर्ष से बात करने को भी तैयार नहीं है।

वहीं अक्षु बिना अभि के पिता के आशीर्वाद के शादी को नहीं मानती। इसके लिए वह अभि को मजबूर करेगी कि उसे अपने पिता को मनाना होगा। अभि के व्यवहार से दुखी हर्ष भी अस्पताल में अक्षु को खूब ताने देगा। वह उससे ऐसी बात कह देगी कि अक्षरा दुखी हो जाएगी और इस मामले में अभि से बात करने की सोचेगी।

अभि अपने पिता को कह देगा अहंकारी

एपिसोड में शुरुआत मंजरी अभि से हर्ष से बात करने के लिए कहती है। वह कहती है कि एक बेटा आज अपने पिता से बात करेगा, इस लड़ाई को खत्म कर दो। हर्ष आता है और कहता है कि यह लड़ाई कभी खत्म नहीं होगी, अभि, अक्षु का प्रेमी है, मुझे कोई माफी नहीं चाहिए।

मैं उसकी शादी में शामिल नहीं होना चाहता। अभि कहता है हाँ, तुम अपनी ज़रूरत के लिए काम करते हो, तुमने मुझे अस्पताल में पहुँचाया क्योंकि तुम्हें मेरी ज़रूरत थी।

तुम माँ को सहन करते हो क्योंकि तुम्हें उसकी ज़रुरत है, तुम पीआर के लिए चैरिटी करते हो, तुम्हें आरोही जैसी बहू की ज़रूरत है। तुम बस अपने को संतुष्ट करना चाहते हो। तुम अहंकारी हो।

अस्पताल में हर्ष से अक्षरा की होगी टकराहट

अस्पताल में हर्ष, अक्षु को देखता है और उसे बधाई देता है। वह कहता है कि तुम होशियार और खतरनाक हो, तुमने मेरे बेटे को प्यार में फंसाया। वह प्यार में नहीं था, तुमने उसे मजनू बनाया है। वह तुम्हारा नाम जपता है।

तुम खुश हो जाओगी, तुम्हें अभि मिल गया। एक अच्छी नौकरी और मनीष का बदला तुम ले रही हो। तुम्हें अस्पताल में फिर से प्रवेश मिल गया।

अब तुम बिड़ला के घर में प्रवेश करने जा रही हो। तुम्हें और क्या चाहिए, तुमने मेरा सब कुछ छीन लिया। अक्षरा हर्ष से कहती है कि आप मुझसे नफरत क्यों करते हो।

अक्षरा ने अभि के सामने रखी जिद

हर्ष कहेगा कि क्या मैं तुमसे नफरत नहीं कर सकता। तुमने मेरे बेटे को दूर कर दिया। वह अपने पिता को भूल गया। उसने मुझे अपनी शादी में आमंत्रित नहीं किया। क्या मैं तुम्हारी आरती करूं। वह चौंक जाती है।

वह कहता है कि शादी के लिए बधाई, लेकिन अगर मेरा आशीर्वाद नहीं है तो यह रिश्ता अच्छा नहीं हो सकता। इस बात पर अक्षरा, अभि से कहेगी कि वह तभी शादी करेगी जब उसका पिता हर्ष शादी में शामिल होगा। अभि उसकी जिद सुनकर शॉक्ड हो जाएगा।

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close