राजनाथ सिंह ने मणिपुर के उग्रवादियों को दिया पैगाम- हिंसा छोड़ शांति वार्ता के लिए आगे आएं

इंफाल : रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मणिपुर में उग्रवादी तत्वों से हिंसा त्यागने और केंद्र सरकार के साथ बातचीत करने के लिए आने का आह्वान किया है। इंफाल वेस्ट जिले के लंगथाबल में आयोजित एक कार्यक्रम में सिंह ने कहा कि अगर उग्रवादी तत्व मुख्यधारा में लौटने के इच्छुक हैं तो केंद्र सरकार उनसे बातचीत करने के लिए तैयार है।

उन्होंने कहा, “हम उग्रवादियों से बातचीत करने के लिए तैयार हैं। मणिपुर में पिछले पांच साल में सबसे कम हिंसा देखने को मिली है। उग्रवाद बहुत कम हुआ है। भारतीय जनता पार्टी हिंसा को समाप्त करेगी और क्षेत्र में शांति तथा विकास लाएगी।”

सिंह ने कहा कि केंद्र सरकार मणिपुर में बेरोजगारी, गरीबी अन्य मुद्दों को सुलझाने तथा राज्य की आमदनी बढ़ाने के वास्ते पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है। रक्षा मंत्री ने विश्वास जताया कि मणिपुर में आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा को पूर्ण बहुमत प्राप्त होगा। उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर में कांग्रेस की पिछली सरकारों की जन विरोधी नीतियों के कारण यह क्षेत्र विकास के क्रम में देश के अन्य भाग से पिछड़ गया।

उन्होंने कहा, “कांग्रेस ने इस क्षेत्र की उपेक्षा की और उसकी जन विरोधी नीतियों ने उसकी पूर्वोत्तर रोधी मानसिकता को उजागर किया। प्रधानमंत्री बनने के बाद, अटल बिहारी वाजपेयी ने इस क्षेत्र के विकास के लिए एक अलग मंत्रालय बनाया था लेकिन 2004 में उनकी सरकार जाने के बाद अगले 10 साल तक इस क्षेत्र की उपेक्षा की गई।”

सिंह ने कहा, “भाजपा के 2017 में राज्य में सत्ता में आने के बाद से मणिपुर में तेजी से विकास हुआ है। पांच साल पहले, राज्य में हिंसा का वातावरण था जो अब समाप्त हो गया है। राज्य के लोगों ने भाजपा के शासन में विकास और सुशासन देखा है।”

Written & Source By : P.T.I

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close