दीनदयाल अंत्योदय योजना व राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन में छूटे परिवारों को जोड़ा जाएगा : 15 दिन चलेगा देशव्यापी अभियान

New Delhi News : नईदिल्ली । दीनदयाल अंत्योदय योजना राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत 34 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में छूटे हुए गरीब ग्रामीण और गरीब महिलाओं को महिला स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) के साथ जोड़ने की प्रक्रिया में तेजी लाने के उद्देश्य से ग्रामीण विकास मंत्रालय 20 सितंबर तक 15 दिवसीय देशव्यापी अभियान चला रहा है।

अभियान के दौरान, प्रत्येक गांव की महिला संस्थाएं एक सामाजिक लामबंदी कार्यक्रम आयोजित करेंगी। जहां प्रत्येक सदस्य अपने साथ ऐसे एक मित्र या पड़ोसी को साथ लाएंगे जो किसीस्वयं सहायता समूह की सदस्य नहीं है।

दीनदयाल अंत्योदय योजना राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (डीएवाई-एनआरएलएम) एसएचजी का हिस्सा बनने के लाभों पर प्रकाश डाला जाएगा। जो गैर-सदस्य इस प्रकार शामिल होने के लिए प्रेरित होंगे।

उन्हें इन सामुदायिक संस्थाओं से जोड़ा जाएगा। दूर-दराज की ग्राम पंचायतों में महिलाओं तक पहुंचने के लिए राज्यों के ब्लॉक स्तर के कर्मचारियों द्वारा भी विशेष रणनीति तैयार की जा रही है।

इस अभियान का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना भी है कि एसएचजी को उच्चस्तरीय संघों, टियर टू लेवल विलेज ऑर्गनाइजेशन (वीओ) और टियर थ्री लेवल क्लस्टर लेवल फेडरेशन (सीएलएफ) में शामिल किया जाए।

मंत्रालय का दृष्टिकोण है कि इस तरह के संघीय ढांचे गरीबों के समुदाय-प्रबंधित संस्थानों के रूप में विकसित होंगे, जो आजीविका और सामाजिक विकास के कार्यक्रमों का नेतृत्व कर सकते हैं। सभी एसएचजी, वीओ और सीएलएफ के गठन के सात दिनों के भीतर बैंक खाते खोले जाएंगे।

इस अभियान की घोषणा 5 सितंबर को ग्रामीण विकास मंत्रालय के सचिव श्री नागेंद्र नाथ सिन्हा ने की थी। 31 अगस्त तक डीएवाई-एनआरएलएम के तहत 8.5 करोड़ से अधिक परिवारों को 78.33 लाख एसएचजी से जोड़ा जा चुका है।

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close