बंगाल में मोदी की रैली : PM का ममता पर तंज- सुना है दीदी किसी और सीट से भी नामांकन भरेंगी

कोलकाता। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को भी चुनावी राज्यों में जमकर प्रचार किया… पीएम मोदी ने असम में 1 चुनावी रैली की तो बंगाल में 2 चुनावी रैलियों को संबोधित किया… प्रधानमंत्री ने असम में कांग्रेस और उसके गठबंधन को घेरा तो बंगाल में ममता बनर्जी पर जमकर हमला बोला… पीएम मोदी ने बंगाल में भाजपा सरकार बनाने का दावा किया तो दीदी की बिदाई को तय बताया।

उन्होंने बंगाल के उलबेरिया में CM ममता बनर्जी पर तंज कसा। मोदी ने कहा कि उन्होंने सुना है कि ममता किसी और सीट से भी नामांकन भरने वाली हैं। पहले उन्होंने नंदीग्राम से चुनाव लड़ने का फैसला लिया और नंदीग्राम के लोगों ने उन्हें जवाब दे दिया है। अब यदि वो कहीं और से भी चुनाव लड़ती हैं तो बंगाल की जनता उन्हें जवाब देने के लिए तैयार है।

मोदी के इस बयान के बाद TMC की सांसद महुआ मोइत्रा ने प्रधानमंत्री पर पलटवार किया है। महुआ ने सोशल मीडिया पर लिखा कि प्रधानमंत्री जी, बिल्कुल वो लड़ेंगी और वो सीट वाराणसी होगी। इसलिए आप भी तैयारी कर लीजिए। इससे पहले TMC ने प्रधानमंत्री के बयान के बाद मीडिया को बताया कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी किसी और सीट से नहीं लड़ रही हैं। वे नंदीग्राम से लड़ीं और यहां से भारी मतों से जीतकर फिर से राज्य की बागडोर संभालेंगी।

बंगाल में मोदी के भाषण की 5 खास बातें

1. ममता को तिलक और भगवा कपड़ों से भी दिक्कत
मोदी ने कहा पूरा बंगाल जानता है कि ममता दीदी को जय श्रीराम कहने से दिक्कत है। उन्हें दुर्गा जी की प्रतिमा के विसर्जन से दिक्कत है। दीदी को तिलक और भगवा कपड़ों से भी दिक्कत है। TMC के लोग तो चोटी रखने वालों को राक्षस कहने लगे हैं।

2. दूसरे राज्यों का अपमान कर रहीं दीदी
ममता दीदी जिस तरह UP और बिहार के लोगों के खिलाफ बोल रही हैं, इससे उनकी राजनीतिक समझ पर सवाल पैदा होता है। उन्हें नहीं भूलना चाहिए कि CM होने के नाते उन्होंने संविधान की शपथ ली हुई है। भारत का संविधान इजाजत नहीं देता कि आप दूसरे राज्यों का अपमान करें।

3. हर जगह से कट मनी लेते हैं TMC के लोग
अम्फान तूफान के समय लोगों की मदद करने की जगह इन्होंने अपने लोगों को फायदा पहुंचाया। इसी लूट का नाम है- खेला होवे। TMC की तोलाबाजी ने गरीब, मिडिल क्लास और व्यापारियों का जीना मुश्किल कर दिया है। जॉब, होम लोन, एजुकेशन, अस्पताल में एडमिशन हर जगह कट मनी चल रही है। कोरोनाकाल में सरकार ने चावल भेजा तो उसमें भी कट मनी। गरीब की थाली में भी कट मनी।

4. दीदी की नीतियों से किसानों को नुकसान हुआ
बंगाल में केंद्र सरकार ने 30 लाख से ज्यादा घर गरीबों के लिए स्वीकृत किए हैं, लेकिन कट मनी के कारण यहां गरीबों के घर अधूरे पड़े हैं। इसे बंगाल में भाजपा सरकार बदलेगी। TMC की नीतियों का नुकसान किसानों को भी हुआ है। दीदी के कारण किसान सम्मान निधि से वंचित हैं।

5. दीदी ने किसानों के खाते में पैसे ट्रांसफर करने से रोका
3 सालों में देशभर के किसानों के खाते में डायरेक्ट पैसे ट्रांसफर हुए। केंद्र सरकार ममता से किसानों के नाम और अकाउंट नंबर मांगती रहीं, लेकिन दीदी ने कोई मदद नहीं की। मोदी ने कहा कि 2 मई को बंगाल में भाजपा की सरकार बनते ही किसानों के खाते में 18 हजार रु. ट्रांसफर किए जाएंगे।

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter