केंद्रीय मंत्री सिंधिया ने ड्रोन पर नीति आयोग के एक्सपीरियंस स्टूडियो का किया शुभारंभ , बोले – भारत बनेगा ड्रोन लीडर !

नई दिल्ली :  केंद्रीय नागर विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने नवाचार को बढ़ावा देने और सार्वजनिक सेवाओं में ड्रोन के उपयोग को बढ़ाने के उद्देश्य से  नीति आयोग में ड्रोन पर एक एक्सपीरियंस स्टूडियो का शुभारंभ किया। इस उद्घाटन समारोह में नीति आयोग की उपाध्यक्ष सुमन बेरी और सीईओ अमिताभ कांत भी मौजूद थे।

केंद्रीय नागर विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि, ‘हमारे पास भारत को 2030 तक वैश्विक ड्रोन केंद्र बनाने की क्षमता है। इस प्रौद्योगिकी का लाभ उठाने के लिए विभिन्न औद्योगिक और रक्षा संबंधित क्षेत्रों में ड्रोन के उपयोग को बढ़ावा देना हमारे लिए अनिवार्य है जैसा कि माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस पर जोर दिया है।

हम ड्रोन सेवाओं को आसानी से सुलभ बनाने की दिशा में सक्रिय रूप से काम कर रहे हैं। भारत में जल्द ही ड्रोन नवाचार को अपनाने वाले उद्योगों की एक बड़ी संख्या उभरकर सामने आएगी। यह अंततः एक ऐसी क्रांति होगी जो प्रत्येक नागरिक के जीवन तक पहुंचकर प्रधानमंत्री के आत्म-निर्भर भारत के लक्ष्य को साकार करेगी।’

सिंधिया ने यह भी कहा कि, ‘ड्रोन उद्योग के हितधारकों और भारत सरकार की सक्रिय भागीदारी के साथ ड्रोन उद्योग तेजी से विकास के पथ पर चल रहा है। सरकार ड्रोन नियमों को आसान बनाकर और ड्रोन शक्ति तथा किसान ड्रोन जैसे कार्यक्रमों के माध्यम से ड्रोन साक्षरता के जरिए ड्रोन अपनाने की इस तेज निरंतरता को बनाए रखने में सक्षम होगी।

मैं नीति आयोग की महीने भर चलने वाले इस तरह के रोमांचक ड्रोन कार्यक्रम की मेजबानी करने, ज्ञान-साझाकरण और विचारों के आदान-प्रदान को संभव करने और ड्रोन परितंत्र में इस तरह नवाचार और विकास को बढ़ावा देने के लिए प्रशंसा करना चाहता हूं। नीति आयोग में अत्याधुनिक एक्सपीरियंस स्टूडियो, प्रौद्योगिकी उत्कृष्टता का प्रतीक है और मुझे यकीन है कि इस दुनिया की समस्याओं को हल करने के लिए यह जिज्ञासु दिमागों को प्रेरित करेगा।’

नीति आयोग की उपाध्यक्ष सुमन बेरी ने कहा कि, ‘ड्रोन की पहुंच, बहुमुखी विलक्षणता और विशेष रूप से भारत के दूरस्थ और दुर्गम क्षेत्रों में इसके उपयोग में आसानी के कारण रोजगार और आर्थिक विकास के महत्वपूर्ण निर्माता के रूप में इसके उभरने की उम्मीद है।

लॉन्च किया गया नीति एक्सपीरियंस स्टूडियो सार्वजनिक और निजी हितधारकों के लिए ड्रोन प्रौद्योगिकी के विभिन्न अनुप्रयोगों को बढ़ावा देने में मदद करेगा। इसके साथ ही यह हितधारकों को अपने संगठनों के भीतर ड्रोन तकनीक को अपनाने में मदद करेगा और इस तरह भारत में एक मजबूत ड्रोन उद्योग के निर्माण में सहायता करेगा।’

नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहा कि, ‘एक्सपीरियंस स्टूडियो के माध्यम से, स्टार्ट-अप और उद्यम अपने नवाचारों और अगली पीढ़ी के प्रौद्योगिकी-सक्षम समाधानों का प्रदर्शन करने में सक्षम होंगे। यह विभिन्न सरकारी विभागों को इन तकनीकों का प्रत्यक्ष अनुभव करने और यह सोचने की अनुमति देगा कि सार्वजनिक सेवाओं में जमीनी स्तर पर इनका उपयोग कैसे किया जा सकता है।

इसके अतिरिक्त, एक्सपीरियंस स्टूडियो अवधारणा के प्रमाणों (प्रूफ-ऑफ-कॉन्सेप्ट्स) और पायलटों के लिए एक सहारे के रूप में भी काम करेगा, जिसका उद्देश्य उन मुद्दों को हल करना है जो सेवाएं प्रदान करने में बाधक बने रहते हैं। एक्सपीरियंस स्टूडियो के माध्यम से छोटे केंद्रित समूह बनाए जाएंगे, जो अंततः इन समाधानों को मुख्य धारा में लाने में मदद करेंगे, जब वे तैयार हो जाएंगे।’

केंद्रीय मंत्री ने निम्नलिखित चुनौतियों के शुभारंभ की भी घोषणा की, जिन्हें नीति आयोग नागर विमानन मंत्रालय (एमओसीए) के सहयोग से आयोजित करेगा :

(ए)सामाजिक प्रभाव प्रतियोगिता के लिए ड्रोन’ : स्टार्ट-अप समुदाय के लिए विभिन्न उपयोग मामलों में महत्वपूर्ण समस्याओं को हल करने के लिए अपनी क्षमताओं का प्रदर्शन।

(बी)रोबोटिक्स कार्यशाला और प्रतियोगिता’ : अटल टिंकरिंग लैब के छात्रों में नवाचार और समस्या-समाधान की भावना को बढ़ावा देना।

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close