चव्हाण निवास में हुआ विराट और पाखी का स्वागत, पाखी ने दी सभी को साई का सच बताने की सलाह

स्टार प्लस के पॉपुलर टीवी शो ‘गुम है किसी के प्यार में’ फाइनली साई और विराट आमने-सामने आ गए है। शो में लीप के बाद नए ट्विस्ट और सस्पेंस सामने आने लगे है। कंकौली में मेजर ड्रामा देखने को मिल रहा है जिसमें पाखी और साई आमने-सामने आ गए हैं। इस बीच विराट भी अब जगताप और साई को साथ में देखकर गुस्से में है और साई से इसको लेकर सवाल कर रहा है।

एपिसोड की शुरुआत में विराट तुरंत अपने घर वापस लौटने का फैसला लेता है। मोहित और पाखी उसे समझाने की कोशिश करते हैं कि वह अभी ठीक नहीं है लेकिन वह कंकौली छोड़ने के लिए जिद पर अड़ जाता है।

बाद में दोनों विराट की मान लेते है। वह पाखी की शांति बनाए रखने के लिए तारीफ करता है, तभी साई उनकी बातचीत सुन लेती है और आहत महसूस करती है।

गुस्से में निकला विराट
इधर पाखी साई को देख लेती है और उसके पास जाकर उसके जीवन के बारे में बात करने की कोशिश करती है, जिस पर साई पाखी को सलाह देती है कि वह विराट को इतनी नाजुक स्थिति में वापस नागपुर न ले जाए।

तभी विराट वहां आता है और साई से उसकी लाइफ में इंटरफेयर न करने के लिए कहता है। वह कहता है कि वह उसके पास एक सेकंड भी नहीं रहना चाहता है।

सावी को देख चौंकी साई
विनायक कहता है कि वह सावी का इंतजार करना चाहता है क्योंकि जाने से पहले वह उससे मिलना चाहता है। जिस पर विराट उसे मना करता है और कहता है कि उससे दूर रहना बेहतर है। विनायक उदास हो जाता है, जबकि विराट अपने परिवार के साथ अपनी कार के अंदर जाता है और वहां से निकल जाता है।

वहीं, उसी वक्त सावी वहां खुद आ जाती है। सावी को देखकर साई चौंक जाती है और उसके लिए परेशान हो जाती है। वह उसको अकेले आने के लिए डांटती है।

विराट ने पढ़ा सावी का मैसेज
विनायक से न मिल पाने के कारण सावी उदास हो जाती है और यह कहते हुए रोने लगती है कि वह विनायक से मिलना चाहती है। वह उसे फोन करने का फैसला करती है लेकिन साईं ने उसे मना कर दिया और उसे घर वापस जाने के लिए कहा।

इधर विराट की कार एक जगह रुकी और उसने पेड़ पर सावी के पिता के बारे में मैसेज देखा कि वह कब आएगा। यह पढ़कर वह सावी के लिए बुरा महसूस करता है और फिर निकला जाता है।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Sairat (@_sairat01)

घर पहुँचते ही च्वहाण परिवार उनका स्वागत करते हैं, तभी शिवानी ने विराट को दुखी देखा और इसके बारे में पूछा, लेकिन सोनाली कहती है कि वह थक गया होगा। वह हरिणी के साथ अपने परिवार को ग्रीट करता है। इसके बाद विराट अपने कमरे के अंदर जाता है और साई को देखना याद करता है।

वह अलमारी पर अपना हाथ पीटना शुरू कर देता तभी पाखी उसे रोक देती है। पाखी उसे चव्हाण को साईं के बारे में बताने की सलाह भी देती है लेकिन वह उसे मना करता है।

प्रीकैप : साईं सावी को गुलाब देती है और कहती कि वह सावी से प्यार करती है, जिसपर सावी अपनी माँ को गले लगा लेती है। फिर वह विनायक को यह कहते हुए फूल देती है कि वह उसका सबसे अच्छा दोस्त है,

जिसपर वह भी खुश हो जाता है और उसे धन्यवाद देता है। फिर वह विराट को देता है और पूछता है कि क्या वह पाखी को नहीं देगा क्योंकि आज उसका जन्मदिन है।

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close