एफआईआर दर्ज करने में पंडोखर पुलिस ने की मनमानी, पीड़ित परिवार ने एसपी के सामने लगाया आरोप, सुरक्षा की मांग की

Datia News : दतिया। पंडोखर थाना क्षेत्र के ग्राम बरका में गत 21 नबंवर को दो सगे भाईयों पर किए गए जानलेवा हमले के बाद भी पुलिस द्वारा आरोपितों की गिरफ्तारी न करने और एक आरोपित का नाम एफआईआर में न लिखने की शिकायत को लेकर

बुधवार को पीड़ित परिवार न्याय की गुहार लेकर पुलिस अधीक्षक अमन सिंह राठौड से मिलने दतिया एसपी आफिस पहुंचा। जहां पीड़ित पक्ष ने एसपी को आवेदन सौंपकर एफआईआर में तीसरे आरोपित का नाम भी जुड़वाने की मांग की।

हमले में गंभीर रूप से घायल हुए सगे भाई रामपाल साहू एवं शशिकांत साहू के मां-बाप ने गांव के अन्य लोगों के साथ एसपी राठौड को साैंपे गए आवेदन में उल्लेख किया है कि उक्त हमले के आरोपित राकेश पटेल और विनीत पटेल के खिलाफ ही पंडोखर

थाना पुलिस ने हत्या के प्रयास का मामला दर्ज किया है, जबकि उस दौरान हमलावरों के साथ राजू पटेल भी था। जिसका नाम भी दोनों घायलों ने पुलिस को एफआईआर के दर्ज कराने के दौरान बताया था।

लेकिन पुलिस ने उसे नामजद नहीं किया। सभी हमलावर खुलेआम घूमकर उन्हें धमका रहे हैं। उक्त आवेदन पर एसपी ने कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

बता दें कि गत 21 नबंवर की सुबह फरियादी रामपाल साहू एवं शशिकांत साहू जब अपनी भैंसे लेकर निकल रहे थे, तभी मवेशी राकेश पटेल के चबूतरे पर चढ़ जाने को लेकर विवाद हो गया।

जिसमें आरोपितों ने रामपाल व शशिकांत साहू को गालियां देते हुए कट्टे फायरिंग कर दी। इस हमले में शशिकांत के कंधे में और रामपाल के एडी में गोली लगी। जिससे दोनों भाई घायल हो गए थे।

जिन्हें पहले जिला चिकित्सालय दतिया लाया गया, बाद में उन्हें ग्वालियर रेफर किया गया था। फरियादियों का आरोप है कि उन्होंने एफआईआर के समय तीन लोगों के नाम लिखवाए थे, लेकिन पंडोखर पुलिस ने आरोपितों से सांठगांठ कर राजू पटेल का नाम एफआईआर में नहीं लिखा।

सभी आरोपित गांव में खुलेआम घूम कर धमकी दे रहे हैं। ऐसे में पीड़ित परिवार ने जान का खतरा होने की बात भी एसपी को बताते हुए सुरक्षा की मांग की।

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter