ज्योतिष को नए रुप में प्रस्तुत करें ताकि इसका लाभ हर व्यक्ति को मिले : महाअधिवेशन में बोले गृहमंत्री डा.मिश्रा, विद्वानों ने भी रखें ज्योतिष पर विचार

Datia News : दतिया। वर्तमान समय में ज्योतिष विद्या एवं वास्तु विज्ञान को नए रूप में प्रस्तुत करने की आवश्यकता है। ताकि इसका सीधा लाभ हर व्यक्ति तक पहुंच सके। यह बात गृहमंत्री डा.नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को दतिया में तृतीय अखिल भारतीय ज्योतिष, वास्तु महाअधिवेशन सम्मेलन को बतौर मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित करते हुए कही।

सिविल लाइन स्थित हेरीटेज होटल दतिया में आयोजित सम्मेलन की अध्यक्षता राज्यसभा सांसद जयप्रकाश निषाद गोरखपुर ने की। महासम्मेलन में ज्योतिषाचार्य एचएस रावत, आचार्य अनिल वत्स, हरीओम जोशी, सुरेश भरमन, पंडित कृपाराम उपाध्याय सहित देशभर से आए विद्वान मौजूद रहे। जिसमें इंदौर, उज्जैन, भोपाल, सहारनपुर, झांसी, आगरा, वृंदावन, अहमदाबाद, सूरत, उड़ीसा, उदयपुर, चंडीगढ़, जयपुर, भीलवाड़ा, गोधरा, अजमेर, देवास, मुंबई आदि स्थानों से ज्योतिषाचार्य व वास्तुविद मौजूद रहे। अधिवेशन का आयोजन राहुल देव सिंह एवं परिणिता राजे द्वारा किया गया। अधिवेशन में रावतपुरा कालेज के मैनेजिंग ट्रस्टी शांतनु अग्रवाल, समाजसेवी जीतू बाबा सहित अन्य लोगों ने गृहमंत्री सहित अन्य अतिथियों का फूलमाला पहनाकर स्वागत सम्मान किया। 13 नबंवर को अधिवेशन का समापन होगा।

गृहमंत्री डा.मिश्रा ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहाकि दतिया में एक मंच पर ही ज्योतिषी, संतों एवं विद्वानों के आगमन से दतिया वासियों को इसका लाभ मिलेगा और इस आयोजन से विज्ञान को नई दिशा भी मिलेगी। उन्होंने सभी विद्वान अतिथियों को डबरा में नवनर्मित हो रहे नवग्रह पीठ पर भी आमंत्रित किया।

काम, क्रोध, लोभ जैसी बुराईयों को छोड़ें : महाअधिवेशन को संबोधित करते हुए राहुलदेव सिंह ने कहाकि रामचरित मानस ग्रंथ हमें प्रेरित करता है कि मानव भी चरित्र बदलकर भगवान राम की तरह बन सकता है। इसके लिए काम, क्रोध, लोभ जैसी बुराईयों को छोड़ना होगा। तभी नए आदर्श स्थापित किए जा सकते हैं। उन्होंने कहाकि गृहमंत्री को लोग अपना आइडियल इसलिए मानते हैं कि वह अनुशासित तरीके से जीवन जीते हैं।

परिणिता राजे ने ज्योतिष को मनोविज्ञान की उम्मीद से जोड़कर प्रभावी व्याख्या की। कार्यक्रम को ज्योतिषाचार्य एचएस रावत ने संबोधित करते हुए कहाकि कि ज्योतिष एक महत्वपूर्ण विज्ञान है बस इसे समझने की आवश्यकता है। उन्होंने कहाकि गर्भधारण के समय से ही आने वाले बच्चे का जीवन भर स्वास्थ्य कैसा रहेगा, यह ज्योतिष के माध्यम से जाना जा सकता है। कार्यक्रम का संचालन पंडित हीरेंद्र शुक्ला ने किया।

संतों की निकली शोभायात्रा : ज्योतिष महाअधिवेशन के दौरान शनिवार सुबह सिविल लाइन से ढोल नगाड़ों के साथ देशभर से आए ज्योतिषाचार्यों और संतों की शोभायात्रा शहर में निकली।

शोभायात्रा में शामिल विद्वानों ने पीतांबरा पीठ पहुंचकर मां बगुलामुखी के दरबार में माथा भी टेका। इस मौके पर पूर्व कुलपति डा.आनंद मिश्रा, राहुलदेव सिंह, परिणिता राजे, प्रशांत भोंडेले, मनोज डाेंगरा, पं.कृपाराम उपाध्याय सहित कई अन्य गणमान्य जन मौजूद रहे।

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter