दक्षिण अफ्रीका में ओमीक्रॉन वेरिएंट का कहर! राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा बोले- देश में बढ़े पांच गुना मामले

जोहानिसबर्ग : दक्षिण अफ्रीका में कोविड-19 की चौथी लहर प्रत्याशित थी और नए ओमीक्रोन स्वरूप का सामने आना अपरिहार्य था, राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा ने संक्रमण में वृद्धि को “चिंता” का बड़ा विषय बताते हुए यह कहा है। राष्ट्रपति ने कहा कि पिछले एक सप्ताह में संक्रमण के दैनिक मामलों की संख्या में पांच गुना वृद्धि हुई है, जहां कुल नमूनों की कोविड-19 जांच में से लगभग एक चौथाई संक्रमित पाए जा रहे हैं। दो हफ्ते पहले, जांच में केवल दो प्रतिशhttp://bhasha.ptinews.com/news/2255713_bhashaत लोग संक्रमित मिल रहे थे।

रामाफोसा ने राष्ट्र के नाम अपनी साप्ताहिक समाचार-पत्रिका में कहा, “संक्रमण के मामलों में वृद्धि बहुत चिंता का विषय है लेकिन हमें यह याद रखना चाहिए कि हमने इसका अनुमान लगा लिया था। हमारे देश में रोग प्रतिरूप तैयार करने वालों ने हमें बताया था कि हम इस समय के आसपास चौथी लहर का सामना करेंगे और यह लगभग अपरिहार्य था कि वायरस के नए रूप सामने आएंगे।”

उन्होंने कहा, “जैसे-जैसे देश कोविड-19 की चौथी लहर की ओर बढ़ रहा है, हम संक्रमण वृद्धि की उस दर का अनुभव कर रहे हैं जो हमने महामारी शुरू होने के बाद से नहीं देखी है। लगभग दो सप्ताह पहले दक्षिण अफ्रीकी वैज्ञानिकों द्वारा वैश्विक ध्यान में लाया गया ओमीक्रोन स्वरूप अधिकांश नए संक्रमणों का कारण है।”

उन्होंने कहा कि दक्षिण अफ्रीका और दुनिया भर के वैज्ञानिक अभी भी नए ओमीक्रोन संस्करण के बारे में महत्वपूर्ण सवालों के जवाब देने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं, जैसे कि इसकी संक्रामक क्षमता, इसका प्रसार, क्या यह अधिक गंभीर बीमारी का कारण बनता है और इसके खिलाफ टीके कितने प्रभावी होंगे।रामाफोसा ने लोगों से टीकाकरण कराने और सख्त लॉकडाउन नियमों की प्रतीक्षा किए बिना सामूहिक सुरक्षा सुनिश्चित करने के उपाय करने का आग्रह किया।

Written & Source By : P.T.I

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close