राष्ट्रपति ने इमरान खान की सिफारिश पर भंग की संसद, 90 दिनों के अंदर होंगे चुनाव

इस्लामाबाद :  पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने रविवार को कहा कि उन्होंने राष्ट्रपति आरिफ अल्वी को नेशनल असेंबली (संसद) को भंग करने की सलाह दी है और नए सिरे से चुनाव कराने की मांग की है। राष्ट्र के नाम एक संक्षिप्त संबोधन में खान ने कहा कि उन्होंने राष्ट्रपति अल्वी को ‘असेंबलीज़’ को भंग करने की सलाह दी है।

उनकी घोषणा से कुछ मिनट पहले ही नेशनल असेंबली के डिप्टी स्पीकर कासिम खान सूरी ने रविवार को खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव को संविधान के अनुच्छेद पांच के खिलाफ बताते हुए खारिज कर दिया. विपक्ष की ओर से अध्यक्ष असद कैसर के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश करने के बाद सूरी ने संसद के अहम सत्र की अध्यक्षता की।

विपक्ष के सदस्य जब सदन पहुंचे तो वे अविश्वास प्रस्ताव को लेकर आश्वस्त दिखाई दिए, लेकिन प्रस्ताव खारिज होने के बाद उन्होंने फैसले का विरोध किया। विपक्ष को खान को सरकार से बाहर करने के लिए 342 में से 172 सदस्यों के समर्थन की ज़रूरत है जबकि उन्होंने दावा किया है कि उनके पास 177 सदस्यों का समर्थन है।

खान 2018 में ‘नया पाकिस्तान’ बनाने के वादे के साथ सत्ता में आए थे और अब अपने राजनीतिक करियर के नाजुक मोड़ पर हैं क्योंकि उनकी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) पार्टी ने बहुमत खो दिया है। उनकी दो सहयोगी पार्टियों ने भी सरकार से समर्थन वापस ले लिया और विपक्ष के खेमे से हाथ मिला लिया है।

इमरान खान अपने कर्तव्यों को जारी रखेंगे- फवाद चौधरी

पाकिस्तानी मंत्री फवाद चौधरी ने कहा है कि संविधान के अनुच्छेद 224 के तहत प्रधानमंत्री इमरान खान अपने कर्तव्यों को जारी रखेंगे. मंत्रिमंडल भंग कर दिया गया है.

इमरान खान ने पाकिस्तान के संविधान का उल्लंघन किया- अहसान भून

पाकिस्तान में सुप्रीम कोर्ट बार के अध्यक्ष अहसान भून का कहना है कि इमरान खान ने पाकिस्तान के संविधान का उल्लंघन किया है. उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों से स्वत: संज्ञान लेने और पीएम इमरान खान को संविधान के उल्लंघन का नोटिस देने का आह्वान किया है. उन्होंने कहा है कि यह पाकिस्तान के खिलाफ एक बहुत बड़ी साजिश है.

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close