सरकार पर संकट के बादल : अगर विधायक बागी हुए, तो गिर जाएगी सरकार? , राउत बोले – ज्यादा से ज्यादा क्या होगा, सत्ता जाएगी’

मुंबई : शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे, कई अन्य विधायकों के साथ, मंगलवार से नाराज़ दिखाई नज़र आ रहे हैं और अब उन्होंने पार्टी के खिलाफ विद्रोह कर दिया, जिससे प्रमुख राजनीतिक संगठनों में हड़कंप मच गया। जहां एमवीए गठबंधन विधायकों को वापस लाने की कोशिश कर रहा है, वहीं बीजेपी इन ‘बागी’ विधायकों का समर्थन हासिल करने की कोशिश कर रही है। महाराष्ट्र राजनीतिक पर संकट के बादल आ गए हैं।

वही मंगलवार को दिन भर सियासी पारा चढ़ा रहा तीनो ही दल आपने विधायकों को फूट से बचाने की कोशिश में लगे रहे। शिवसेना भवन में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने पार्टी वर्कर्स और विधायकों के साथ विधायकों बैठक की जहा इस बात पर विभिन्न चर्चा हुई।

महाराष्ट्र में संकट के बीच कांग्रेस करेगी वरिष्ठ नेताओं की बैठक !
एमवीए सरकार पर संकट के बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ मुंबई पहुंचे वहा कमलनाथ वरिष्ठ नेताओं की बैठक की अध्यक्षता करेंगे। साथ ही कांग्रेस को भी महाराष्ट्र में बगावत का डर सत्ता रहा हैं। इसके चलते कांग्रेस के सभी नेताओ को सक्रिय कर दिया है।

ज्यादा से ज्यादा सत्ता जाएगी – संजय राउत
शिवसेना सांसद संजय राउत ने बड़ा बयान दिया है उन्होंने कहा कि  – ज्यादा से ज्यादा क्या होगा सत्ता जाएगी, लेकिन पार्टी की प्रतिष्ठा से समझौता नहीं करेंगे शिंदे ने कोई शर्त नहीं रखी है।

पार्टी बनाने में उनका योगदान रहा है। हम लगातार संपर्क में हैं और सभी विधायक शिवसेना में ही रहेंगे। ऑपरेशन लोटस सफल नहीं हो पाएगा।

कौन हैं एकनाथ शिंदे ?
एकनाथ शिंदे (जन्म 9 फरवरी 1964) महाराष्ट्र सरकार में शहरी विकास और लोक निर्माण (सार्वजनिक उपक्रम) के कैबिनेट मंत्री हैं वह शिवसेना के सदस्य के रूप में ठाणे, महाराष्ट्र, भारत के कोपरी-पछपाखडी निर्वाचन क्षेत्र से विधान सभा के वर्तमान सदस्य हैं। वह 2004, 2009, 2014 और 2019 के लिए महाराष्ट्र विधानसभा में लगातार 4 बार निर्वाचित हुए हैं।

2001 में, वह टीएमसी में सदन के नेता के रूप में चुने गए। वह 2004 तक इस पद पर बने रहे। टीएमसी में सदन के नेता के रूप में, उन्होंने खुद को टीएमसी या शहर से संबंधित मुद्दों तक सीमित नहीं रखा, बल्कि समग्र विकास और पूरे के कल्याण में सक्रिय रुचि ली। ठाणे जिला।

एक महीने के भीतर, जैसा कि शिवसेना ने राज्य सरकार में शामिल होने का फैसला किया, उन्होंने लोक निर्माण विभाग (सार्वजनिक उपक्रम) मंत्री के रूप में शपथ ली और जनवरी 2019 में स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की अतिरिक्त जिम्मेदारी संभाली।
हाल ही में, उन्हें लगातार दूसरी बार शिवसेना के विधायक दल के नेता के रूप में चुना गया था।

एकनाथ शिंदे द्वारा संभाले गए पद
● 1997 : पहली बार ठाणे नगर निगम के पार्षद चुने गए
● 2001 : ठाणे नगर निगम में सदन के नेता के पद पर निर्वाचित हुए।
● 2002 : दूसरी बार ठाणे नगर निगम के लिए चुने गए
● 2004: महाराष्ट्र विधान सभा के लिए चुने गए
● 2005 : शिवसेना के ठाणे जिला प्रमुख नियुक्त। पार्टी में इतने प्रतिष्ठित पद पर नियुक्त होने वाले पहले विधायक
● 2009 : महाराष्ट्र विधान सभा के लिए निर्वाचित
● 2014 : महाराष्ट्र विधान सभा के लिए निर्वाचित

● अक्टूबर 2014 – दिसंबर 2014: विपक्ष के नेता महाराष्ट्र विधान सभा
● 2014 – 2019: महाराष्ट्र राज्य सरकार में पीडब्ल्यूडी (पीयू) के कैबिनेट मंत्री
● 2014 – 2019: ठाणे जिले के संरक्षक मंत्री
● 2018 : शिवसेना पार्टी के नेता नियुक्त
● 2019: महाराष्ट्र राज्य सरकार में सार्वजनिक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री (मराठी: सार्वजनिक आरोग्य आणि कुटुंब कल्याण)

● 2019 : लगातार चौथी बार महाराष्ट्र विधानसभा के लिए चुने गए
● 2019 : शिवसेना के विधायक दल के नेता के रूप में चुने गए
● 28 नवंबर 2019: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता में महा-विकास-अघाड़ी के तहत कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली।

● 2019: शहरी विकास और लोक निर्माण मंत्री (सार्वजनिक उपक्रम) नियुक्त
● 2019: गृह मंत्री (कार्यवाहक) नियुक्त (28 नवंबर 2019 – 30 दिसंबर 2019)
● 2020: ठाणे जिले के संरक्षक मंत्री नियुक्त

महाराष्ट्र विधानसभा का समीकरण

कुल सीटें : 288 बहुमतः 144

महाविकास अघाड़ी

शिवसेना 56  एनसीपी  53  कांग्रेस 44  कुल 153

एनडीए

भाजपा106  RS.P 1 जेएसएस 1  निर्दलीय 5 कुल  113

 

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close