बुधनी के खिलौनाें को विश्वविख्यात बनाने के लिए जीआई टैग दिलाने के होगें प्रयास – CM शिवराज

भोपाल : बुधनी के खिलौना उत्पादों को बुधनी के नाम से विश्वविख्यात बनाने के लिए जी आई टैग दिलाए जाने के प्रयास होंगे। यह बात मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने गत दिवस बुधनी के टॉय फेस्टिवल में कही। उन्होंने कहा कि विश्व बाजार से प्रतिस्पर्धा के लिए क्लस्टर बनाकर लकड़ी के अलावा अन्य खिलौने भी बनाए जाएंगे।

मुख्यमंत्री चौहान ने खिलौनाकारी बुधनी खिलौना महोत्सव को सम्बोधित करते हुए कहाकि यह महोत्सव 14 नवम्बर तक चलेगा। इस महोत्सव में सांसद रमाकांत भार्गव, मुख्यमंत्री चौहान की धर्मपत्नी साधना सिंह सहित अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित रहे।
मुख्यमंत्री ने कहाकि उनकी जानकारी में है कि अनेक व्यवसायी ऑनलाइन मार्केटिंग कर अधिक कीमत कमाते हैं। कुछ ऑनलाइन कम्पनी तो 5 गुना तक ज्यादा कीमत में बुधनी के खिलौने बेचती है। मुख्यमंत्री ने कहाकि उनका प्रयास है कि यह काम स्थानीय कारीगर ही करें। सरकार इसके लिए नेटवर्क तैयार करेगी।

उन्होंने कहाकि खिलौने ही नहीं यहां के गेहूं और बासमती चावल सहित अन्य उत्पादों को जीआई टैग दिलवाने के हर सम्भव प्रयास होंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आव्हान पर प्रदेश में शुरू की गई एक जिला-एक उत्पाद योजना में सीहोर जिले में खिलौना उत्पाद को शामिल किया गया है। खिलौनों की कम लागत, फिनिशिंग के लिए क्लस्टर बनाकर प्रशिक्षण दिलाया जाएगा और अन्य खिलौने निर्माण के लिए आवश्यक मशीनरी भी लगाई जाएगी।

मुख्यमंत्री ने स्थानीय शिल्पियों के व्यवसाय को और बेहतर बनाने के लिए बुधनी के ही गड़रिया नाला के समीप दुकानें बनाकर बाजार विकसित करने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहाकि बुधनी को अलग पहचान देने के लिए पारंपरिक रूप से सजावट की जाएगी और आकर्षक प्रवेश द्वार बनाए जाएंगे। मुख्यमंत्री ने स्व-सहायता समूहों को आश्वस्त किया कि उनके उत्पादों को बेहतर बाजार उपलब्ध करवाया जाएगा।

उन्होंने युवाओं को उनकी रुचि का प्रशिक्षण देकर रोजगार उपलब्ध करवाने की बात कही। मुख्यमंत्री ने कहाकि मुद्रा योजना के अलावा प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर योजना और मुख्यमंत्री पथ विक्रेता योजना का युवा लाभ लें। सरकार द्वारा इन योजनाओं में लिए गए ऋण पर ब्याज अनुदान दिया जाता है।

width="500"

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close