नए अध्यक्ष की नियुक्ति पर राहुल गांधी ने सरकार को घेरा, यूपीएसी को बताया ‘यूनियन प्रचारक संघ आयोग’

नई दिल्ली :  कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) के नए प्रमुख की नियुक्ति को लेकर सोमवार को केंद्र सरकार पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि बारी-बारी से एक-एक संस्था को नष्ट किया जा रहा है।

उन्होंने एक खबर का हवाला भी दिया जिसमें यह दावा किया गया है कि यूपीएससी के नए प्रमुख मनोज सोनी का भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के साथ बहुत पुराना संबंध है।

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ‘‘यूनियन प्रचारक संघ कमीशन। भारत संविधान को नष्ट किया जा रहा है, बारी-बारी से, एक-एक संस्था को नष्ट किया जा रहा है।’’ हाल ही में राहुल गांधी ने एक पुस्तक के विमोचन के मौके पर कहा था कि संविधान एक हथियार है, लेकिन जब संस्थाओं पर नियंत्रण कर लिया जाए तो इसका कोई मतलब नहीं रह जाता।

कोरोना से मौत को लेकर भी साधा था निशाना
वहीं, रविवार को राहुल गांधी ने कोरोना से मौत के आंकड़ों को लेकर सरकार पर निशाना साधा था। उन्होंने अपने ट्वीट में आरोप लगाया था कि ‘मोदी जी न तो सच बोलते हैं और न ही दूसरों को बोलने देते हैं।

वह अभी भी झूठ बोलते हैं कि ऑक्सीजन की कमी से किसी की मौत नहीं हुई!’ राहुल गांधी ने कहा कि ‘मैंने पहले भी कहा था कि कोविड के दौरान सरकार की लापरवाही के कारण पांच लाख नहीं, बल्कि 40 लाख भारतीयों की मौत हुई। अपनी जिम्मेदारी निभाएं, मोदी जी हर (कोविड) पीड़ित परिवार को चार-चार लाख रुपए का मुआवजा दें।’

पहले भी संघ पर लगाएं हैं आरोप
साथ ही, इस महीने की शुरुआत में गांधी ने एक किताब के विमोचन के दौरान अपने संबोधन में कहा था कि संविधान एक हथियार है, लेकिन संस्थाओं के बिना यह अर्थहीन है। उन्होंने आरोप लगाया था कि आरएसएस ने संस्थानों पर कब्जा कर लिया है।

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close