चाचा ही निकला अपने भतीजे का कातिल : पत्नी से अवैध संबंध के चलते खेत पर रात में मारी दी थी गोली

Datia News : दतिया। डीपार पुलिस ने तीन दिन में ही अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझा ली है। अवैध संबंधों के चलते फरियादी चाचा ने ही अपने भतीजे की हत्या कर दी थी। पुलिस के चंगुल से बचने के लिए फरियादी ने हत्याकांड की झूठी कहानी रचकर पुलिस को गुमराह करने की कोशिश भी की।

लेकिन मौके पर मिले सुराग और पूछतांछ के बाद हत्याकांड का राज खुल गया। डीपार पुलिस ने हत्या के आरोपित सतीश बाथम को गिरफ्तार कर उसकी निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त किया गया अवैध कट्टा भी बरामद कर लिया है।

एसडीओपी दीपक नायक ने बताया कि गत 2 अप्रैल को युवक दीपक बाथम पुत्र बालमुकंुद का शव राजेश्वरी मंदिर के पीछे खेत में पड़ा मिला था। जिसके बारे में मृतक के चाचा सतीश बाथम ने पुलिस को जानकारी दी थी कि 2 अप्रैल की रात करीब 11.30 बजे वह और उसका भतीजा दीपक बाथम खेत में कछवारी की सुरक्षा कर रहे थे।

तभी 2-3 अज्ञात लोगों ने आकर फायरिंग कर दी, जिससे गोली लग जाने से दीपक की मौके पर ही मौत हो गई। फरियादी चाचा की रिपोर्ट पर डीपार पुलिस ने अज्ञात लोगों के विरुद्ध हत्या का मामला दर्ज कर विवेचना में लिया गया। पुलिस ने जब मृतक की पत्नी, मृतक के पिता बालमुकुंद, चाचा संतोष के बयान एवं आसपास जानकारी ली तो शंका बढ़ गई।

सीडीआर रिपोर्ट से मिले सुराग से पता चला कि मृतक के चाचा सतीश बाथम की पत्नी पिंकी बाथम और दीपक के बीच अवैध संबंधों के चलते सतीश ने दीपक की गोली मारकर हत्या की थी।

मामले से बचने के लिए उसने पत्नी के प्रेमी की हत्या को लेकर मनगढंत झूठी कहानी गढ़ी थी। डीपार पुलिस ने सतीश को गिरफ्तार कर जब सख्ती दिखाई तो उसने जुर्म स्वीकार कर लिया।

जिस कट्टे से दीपक बाथम को मारा था वह भी आरोपित से बरामद कर लिया गया। मृतक दीपक बाथम का मोबाइल भी आरोपित के कब्जे से बरामद हुआ है।

इस कार्रवाई में उप निरीक्षक वैभव गुप्ता थाना प्रभारी डीपार, उनि मुरारी शर्मा, प्र.आरक्षक लक्ष्मीनारायण, नरेश, पंकज, नितेश, मुनेष, लायकराम, अमित की भूमिका रही।

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close