फडणवीस द्वारा सौंपे गए वीडियो की जांच होगी, पवार बोले- मैं इसमें शामिल नहीं

मुंबई : राकांपा प्रमुख शरद पवार ने बुधवार को कहा कि महाराष्ट्र सरकार निश्चित तौर पर भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस द्वारा सौंपी गई वीडियो फुटेज की सत्यता की जांच कराएगी। फडणवीस ने आरोप लगाया है कि महाराष्ट्र का सत्तारूढ़ गठबंधन अपने राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ षड्यंत्र रच रहा है।

पवार ने यहां पत्रकारों से बातचीत में यह भी कहा कि उनके नाम का कथित षड्यंत्र के संबंध में ‘‘प्रत्यक्ष/अप्रत्यक्ष’’ तौर पर जिक्र किया गया है लेकिन उनका इससे कोई लेना-देना नहीं है। राज्य विधानसभा में कानून व्यवस्था के मुद्दे पर बोलते हुए फडणवीस ने सदन के उपाध्यक्ष नरहरि जिरवाल को मंगलवार को एक पेन ड्राइव सौंपा।

पूर्व मुख्यमंत्री ने दावा किया कि पेन ड्राइव में 125 घंटे की वीडियो रिकार्डिंग है, जिसमें यह देखा जा सकता है कि पुलिस और एमवीए (शिवसेना, राकांपा तथा कांग्रेस) के सदस्यों ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेताओं को झूठे मामलों में फंसाने के लिए किस तरह से साजिश रची।

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रमुख इस आरोप पर हंसते नजर आए कि वह फडणवीस और भाजपा नेता गिरीश महाजन का राजनीतिक करियर खत्म करना चाहते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘ऐसा लगता है कि इसमें कुछ हास्यास्पद जानकारी भी है। किसी को भी इस तरह खत्म नहीं किया जा सकता। अगर यह सच है कि फडणवीस द्वारा सौंपी गई रिकॉर्डिंग 125 घंटे की है तो किसी शक्तिशाली एजेंसी के इस्तेमाल की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता और ऐसी एजेंसियां केवल भारत सरकार के तहत काम करती हैं।’’

उन्होंने कहा कि महा विकास अघाडी (एमवीए) सरकार अपने विरोधियों पर निशाना साधने के लिए सत्ता का दुरुपयोग नहीं कर रही है। उन्होंने कहा, ‘‘एक चीज गौर करने वाली है कि केंद्र और उसकी सभी एजेंसियों की सभी शक्तियां उन लोगों के हाथ में हैं जो देवेंद्र फडणवीस जैसी विचारधारा का अनुसरण करते हैं।’’

Share this with Your friends :

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
close